आजम के सिपहसलारों पर पुलिस का शिकंजा, मीडिया प्रभारी के पास से लूटे गए जेवरात और दो भैंस बरामद



  • आजम खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खां शानू से लूटे गए जेवरात और दो भैंस बरामद की हैं

  • रामपुर पुलिस ने शानू को मंगलवार की रात गिरफ्तार कर लिया था

  • इस दौरान उनकी निशानदेही पर लूटे गए जेवरात और भैंस बरामद की गई है


रामपुर। रामपुर के सांसद आजम खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खां शानू की निशानदेही पर पुलिस ने लूट के जेवर और दो भैंस बरामद करने का दावा किया है। रामपुर पुलिस ने शानू को मंगलवार की रात गिरफ्तार कर लिया था। उनसे कई घंटे पूछताछ की गई और अब भी पूछताछ जारी है। इस दौरान उनके पास से नगदी भी मिली है। शानू खां के खिलाफ डूंगरपुर और घोसियान में लोगों के मकान तोड़ने और लूटपाट करने के 17 मुकदमे दर्ज किए गए थे। दरअसल रामपुर से समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खां शानू की निशानदेही पर पुलिस ने लूट और डकैती की चांदी की पायल दो जोड़ी, सोने के एक जोडी कानों के बुन्दें, सोने के दो गले के हार, सोने की एक अंगूठी, दो भैस, लोहे की एक जंजीर, भैस के गले की चार घण्टी, पुरानी मुद्रा के 4500 रूपये, सोने की दो झुमकी बरामद करे का दावा किया है। शानू के खिलाफ रामपुर में 24 मुकदमें दर्ज हैं। वह जिला बदर भी था। शानू को मंगलवार की रात में गिरफ्तार किया गया था। एसएसपी शुगन के मुताबिक शानू के खिलाफ डूंगरपुर बस्ती में मकान तोड़ने, लूटपाट, छेड़छाड़ आदि धाराओं में दर्जनभर मुकदमे दर्ज किए गए थे। सिविल लाइंस थाने के एक मामले में उसके खिलाफ गुंडा एक्ट लगाया था। छह माह के लिए जिला बदर किया था। एसओजी ने मंगलवार रात शानू को पकड़ा था। शानू की निशानदेही से बरामद भैंस यतीमखाना से लूटी गई थीं। भैंसों की पहचान मालिकों ने कर ली है, उनकी सुपुर्दगी में दे दिया है।
पहले भी दो लोगों की हुई थी गिरफ्तारी
इससे पहले सोमवार को रामपुर जिले के डूंगरपुर इलाके में 2016 में लोगों के घरों में घुसकर मारपीट और लूटपाट करने के बाद बुलडोजर चलाकर घरों को ध्वस्त करने के दो आरोपियों अब्दुल्ला परवेज शमसी और इकराम खां को गंज पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस का दावा है कि पूछताछ में दोनों ने स्वीकार किया है कि तत्कालीन मंत्री आजम खां के इशारे पर डूंगरपुर के लोगों के घरों में लूटपाट, मारपीट, फायरिंग करते हुए उनके घरों को तोड़ दिया था। दरअसल, 2016 में डूंगरपुर में आसरा कॉलोनी बनाने के लिए वहां पहले से रहने वाले लोगों के घरों को तोड़ दिया गया था। 2019 में 13 मुकदमे दर्ज हुए थे। गंज थाना की पुलिस ने वांछित अब्दुल्ला परवेज और इकराम खां कोगिरफअतार कर उनकी निशानदेही से लूट का कुछ सामान आदि बरामद किया है।