अद्भुत बच्ची का जन्म, न हाथ-न पैर, डॉक्टर भी हैं हैरान



  • एमपी के विदिशा जिले में अद्भुत बच्ची का हुआ है जन्म

  • बच्ची के नहीं है दोनों हाथ और पैर, फिर भी पूरी तरह से है स्वस्थ

  • परिवार के लोग मान रहे हैं भगवान की देन

  • बच्ची को देखने दूर-दूर से आ रहे हैं लोग, डॉक्टर भी हैरान


विदिशा। एमपी के विदिशा जिले में एक अद्भुत बच्ची का जन्म हुआ है। कुदरत के इस करिश्मे को देख जिले के लोग हैरान हैं। जन्म के बाद बच्चे का सिर्फ सिर और धड़ है। उसके हाथ और पैर नहीं है। ऐसे में पूरे क्षेत्र में इस बच्ची का जन्म की चर्चा हो रही है। वहीं, डॉक्टर भी इसे लेकर हैरान हैं। जन्म के बाद बच्ची बिल्कुल स्वस्थ है। उसे सांस लेने में भी कोई दिक्कत नहीं है। दरअसल, विदिशा जिले के सिरोंज के सांकला गांव में इस बच्ची का जन्म हुआ है। सांकला में रहने वाले सोनू वंशकार की पत्नी इस बच्ची को जन्म दिया है। नवजात बच्ची का दोनों हाथ और पैर नहीं है। हालांकि उसकी धड़कन बिल्कुल ठीक है और सांस लेने में भी किसी प्रकार की दिक्कत नहीं है। लेकिन जन्म के साथ ही हाथ पैर न होना लोगों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है। इस मामले में सिरोंज शासकीय राजीव गांधी चिकित्सालय के डॉक्टर राहुल चंदेलकर ने कहा कि यह एक जन्मजात बीमारी है, जो लाखों लोगों में से किसी एक में देखी जाती है, इसे ट्रेट एमेलिया कहा जाता है। इसके पहले ऐसा बच्चा आस्ट्रेलिया में जन्म लेने की बात कही जा रही है। प्रसव पीड़ा के बाद बच्ची जन्म 26 जून को घर में ही हुआ है। परिवार के लोग इस कूदरत की करिश्मा मान रहे हैं। जन्म के बाद बच्ची को लेकर परिजन डॉक्टर के पास नहीं गए हैं। अब सोशल मीडिया पर बच्ची की तस्वीर वायरल है। गांव के लोगों की भीड़ भी बच्ची को देखने के लिए सोनू वंशकार के घर खूब उमड़ रही है। वहीं, बच्ची की मां प्रीति ने कहा कि इसे जन्म के बाद हम अस्पताल लेकर नहीं गए हैं। यह जन्म से मां का दूध पी रही है। साथ ही बिल्कुल स्वस्थ है। शारीरिक कमी को छोड़ दें, तो बच्ची को कोई परेशानी नहीं है। परिवार के लोगों का कहना है कि हमारे खानदान में कई पीढ़ियों से कोई अपंग व्यक्ति पैदा नहीं हुआ है। भगवान ने हमारे घर में अद्भुत बच्ची भेजी है।