कानपुर में शोहदों ने 8वीं की छात्रा को सरेराह पीटा, छात्रा ने दी जान


कानपुर। उत्‍तर प्रदेश के कानपुर में शोहदों की प्रताड़ना से परेशान होकर 8वीं की एक छात्रा ने शनिवार देर रात फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉटर्म के लिए भेज दिया है। छात्रा बीमार मां के लिए मेडिकल स्टोर से दवा लेने के लिए गई थी। लौटते वक्त शोहदों ने छात्रा का रास्ता रोक लिया और उसे जबरन खींचने का प्रयास करने लगे। छात्रा के विरोध करने पर शोहदों ने उसकी पिटाई कर दी। शोहदों के चंगुल से छूटकर छात्रा घर की तरफ भागी तो शोहदों ने उसका पीछा किया और घर के अंदर घुसकर मां और बेटी की पिटाई कर दी। शोहदों की इस हरकत से आहत छात्रा ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। बिधनू थाना क्षेत्र के न्यू आजाद नगर चौकी क्षेत्र में रहने वाला एक परिवार मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण करता है। मजदूर की 14 वर्षीय बेटी 8 वीं क्लास की छात्रा थी। मोहल्ले में रहने वाले तीन लड़के छात्रा को अक्सर परेशान करने के साथ ही अश्लील कमेंट्स करते थे। स्कूल और कोचिंग जाते वक्त भी शोहदे उसका रास्ता रोकते थे। छात्रा अपने परिजनों से शोहदों की कई बार शिकायत कर चुकी थी, लेकिन आरोपी छात्रा के घर के बाहर आकर दबंगई दिखाते थे। छात्रा के परिजन शोहदों की शिकायत कई बार उनके घरवालों से कर चुके थे, लेकिन लड़के अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे थे। छात्रा के पिता का कहना है कि शनिवार को वह काम पर गया था। घर पर मां-बेटी अकेली थी। बेटी-मां के लिए दवा लेने गई थी, जहां तीन लड़कों ने उसका रास्ता रोक लिया था। बेटी ने जब विरोध किया तो उसकी पिटाई कर दी। बेटी भागते हुए घर आई तो तीनों लड़के उसके पीछ-पीछे घर तक आ गए। इसके बाद मां और बेटी को जमकर पीटा। तीनों लड़के बीते कई महीने से बेटी को परेशान कर रहे थे। कई बार लड़कों को समझाने का प्रयास किया गया था।
दो आरोपी अरेस्‍ट
एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता ने बताया कि शनिवार को थाना बिधनू क्षेत्र में एक लड़की के आत्महत्या करने की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉटर्म के लिए भेजा। पीड़िता के घरवालों ने नामजद तहरीर दी है। पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया है और एक युवक की तलाश की जा रही है। इस तरह के कोई तथ्य सामने नहीं आए हैं कि इन युवकों द्वारा लड़की को पूर्व में परेशान किया गया हो या फिर पुलिस को सूचित किया गया हो।