फर्रुखाबाद के संकिसा में ताबड़तोड़ फायरिग से थर्राया इलाका, चार घायल


संकिसा,(फर्रुखाबाद)। चार जून को खोदी गई सड़क का दोबारा निर्माण करवा रहे ग्रामीणों का एटा जिले के ग्रामीणों ने विरोध कर दिया। देखते ही देखते दोनों पक्षों से ताबड़तोड़ फायरिग हुई। इसमें चार लोग घायल हो गए। घटनास्थल एटा जिले का होने के कारण वहां के अधिकारी भारी फोर्स के साथ पहुंचे। 04 जून को एटा जिले के गांव खरसुलिया चौराहे से फर्रुखाबाद जिले के नौली जाने वाले संपर्क मार्ग को जेसीबी मशीन से खोद डाला गया था। नौली गांव के लोगों ने इसके विरोध में अलीगंज से सराय अगहत जाने वाले मार्ग पर जाम लगा दिया था। बुधवार की सुबह नौली गांव के करीब एक हजार ग्रामीण विवादित सड़क पर ट्रैक्टर ट्राली और लेबलर से मिट्टी डाल कर सड़क बनाने लगे। इसकी जानकारी जब एटा जिले के नयागांव, खरसुलिया गांव के लोगों को हुई तो वहां से भारी भीड़ पहुंची और सड़क निर्माण का विरोध किया। इस पर दोनों पक्षों से फायरिग हुई। नयागांव थाने से पुलिस पहुंची तो किसी ने उसकी एक बात नहीं सुनी। सड़क निर्माण चलता रहा। बताया जा रहा है अलीगंज के सत्तापक्ष के एक जनप्रतिनिधि समर्थक वहां पहुंच गए। इस पर एटा जिले के ग्रामीणों ने फिर से ताबड़तोड़ फायरिग शुरू कर दी। जवाब में नौली गांव के लोगों ने भी फायरिग की। सैकड़ों राउंड फायर पुलिस के सामने किए गए। गोली चलते देख वहां अफरा-तफरी मच गई और लोग अपनी जान बचाकर इधर-उधर भागे। सड़क पर मिट्टी डाल रहे लोग ट्रैक्टर लेकर मौके से भागे। करीब आधा घंटे तक दोनों ओर से फायरिग हुई। इस संघर्ष में छविराम पुत्र रमेश सिंह निवासी खरसुलिया जिला एटा और दूसरे पक्ष से फर्रुखाबाद के थाना मेरापुर क्षेत्र के गांव नौली निवासी जनवेश पुत्र बेंचेलाल, राजीव पुत्र रामरूप व मानिक चंद्र पुत्र नरोत्तम घायल हो गए। एटा जिले के जिलाधिकारी सुखलाल, एसएसपी सुनील कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह, एसडीएम और सीओ अलीगंज भारी फोर्स के साथ पहुंचे। स्थिति को नियंत्रण में लेने के लिए फर्रुखाबाद जिले के कायमगंज क्षेत्राधिकारी राजवीर गौर, शमसाबाद, नवाबगंज व मोहम्मदाबाद के थानाध्यक्ष फोर्स लेकर पहुंचे। घटनास्थल एटा जिले का होने के कारण मुकदमा नयागांव में ही दर्ज होगा।