'डार्क नेट' एयरपोर्ट पर पकड़ा तेल वाला गांजा


नई दिल्ली। कैलिफोर्निया से एन-95 मास्क बताकर भारत लाई गई नशे की एक खेप को दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ा गया है। इसे कस्टम (प्रिवेंटिव) अधिकारियों ने डार्क नेट के माध्यम से पकड़ा है। डार्क नेट पर इस ड्रग्स का सौदा होने के बाद इसे कैलिफोर्निया से दिल्ली होते हुए मुंबई पहुंचाया जाना था। लेकिन इससे पहले ही दिल्ली एयरपोर्ट पर कस्टम (प्रिवेंटिव) अधिकारियों को डार्क नेट के माध्यम से इसकी भनक लग गई। माल को दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ लिया गया। कस्टम (प्रिवेंटिव) अधिकारियों ने बताया कि नशे के इस मामले में गांजे को तेल के रूप में लाया जा रहा था। इसे हुक्का बार आदि में फ्लेवर्ड ड्रग्स के रूप में इस्तेमाल किया जाना था। पहले सूखे पत्तों के रूप में इसे लाया जाता था। लेकिन अब तेल के रूप में इसे लाया जा रहा था। वह भी गलत डिक्लेयर करके। इस माल को सोमवार रात दिल्ली एयरपोर्ट के न्यू कूरियर टर्मिनल पर पकड़ा गया। यह कूरियर की शक्ल में यहां लाया जा रहा था। इसका जो बिल बना था। उस पर एल-95 मास्क और अन्य जरूरी मेडिकल आइटम लिखे थे। लेकिन कस्टम को डार्क नेट के माध्यम से इसकी भनक लग गई। वहां से कस्टम ने इसकी तमाम लोडिंग और अनलोडिंग की डिटेल निकाल ली। इसमें यह भी पता लग गया कि यह कौन सी फ्लाइट से दिल्ली लाया जा रहा है और फिर यहां से इसे कैसे कहां ले जाया जाएगा। समय रहते ही कस्टम की टीम ने इस माल को ओपन करके ड्रग्स की इस खेप को पकड़ लिया। शुरुआती जांच में यह जिस नाम और एड्रेस पर बुक की गई थी। वह सब फर्जी मिले हैं। इनकी जांच कराई जा रही है कि आखिर जब सारे नाम और एड्रेस फर्जी हैं तो फिर इसे एयरपोर्ट से कौन और कैसे ले जाता? कस्टम को डार्क नेट से और भी कुछ मामलों में क्लू मिले हैं। माना जा रहा है कि आने वाले समय में इसी तरह के और माल पकड़े जा सकते हैं। साथ ही कस्टम को यह भी शक है कि भारत में अब कुछ स्मगलर हवाई मार्ग से कहीं अधिक कोविड स्पेशल ट्रेनों से कुछ माल को स्मगलर करने की जुगत भिड़ा रहे हैं। इसी सिलसिले में पिछले दिनों दो रेड में नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशनों पर विदेशी सिगरेटों की खेप पकड़ी भी जा चुकी हैं।