एनडीएमसी एरिया में एंटी स्मॉग गन से दूर होगा प्रदूषण


नई दिल्ली। एनडीएमसी के इलाकों में अब एंटी स्मॉग गन के जरिए प्रदूषण को कम किया जाएगा। यह ऐसी मशीन है, जिससे पानी की तेज फुहार निकलती है और उसके जरिए प्रदूषण को कम करने में मदद मिलती है। सोमवार को कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क में एनडीएमसी के चेयरमैन धर्मेंद्र ने सेक्रेट्री अमित सिंगला और दूसरे वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में परिषद को मिली पहली एंटी स्मॉग गन का औपचारिक रूप से उद्घाटन किया। एनडीएमसी के अधिकारियों के मुताबिक, यह एंटी स्मॉग गन पानी की महीन बूंदों के जरिए बेहद सूक्ष्म कोहरे का निर्माण करती है और तेज स्पीड वाले पंखे की मदद से काफी बड़े क्षेत्र में पानी की बौछार की तरह इसे फैला देती है। पानी की ये महीन बूंदें हवा में मौजूद छोटे धूल के बेहद सूक्ष्म कणों को भी अवशोषित कर लेती हैं, जिससे प्रदूषण में कमी आती है। करीब 13 लाख रुपये की लागत वाली इस मशीन की मदद से पीएम-10 के साथ-साथ बेहद घातक पीएम 2.5 कणों के स्तर को भी कम करने में मदद मिलेगी। यह मशीन पानी की फुहारों को 100 मीटर दूर तक फेंक सकती है। इससे निकलने वाली पानी की बूंदों का आकार 30 माइक्रोन से 50 माइक्रोन तक होगा और यह 27000 से 37000 वर्गमीटर तक के क्षेत्र को कवर कर सकेगी। इस मशीन को 320 डिग्री तक घुमाया जा सकेगा। साथ ही इसकी ऊंचाई को भी 45 डिग्री तक एडजस्ट किया जा सकता है। इसके पिछले हिस्से में लगे पंखे की क्षमता को बढ़ाने के लिए इसमें 36 किलोवॉट की क्षमता वाली मोटर लगी है, जिससे पानी की फुहारों को तेज रफ्तार में फेंका जा सके। इस मशीन में प्रति मिनट 250 लीटर पानी इस्तेमाल हो सकता है। सबसे खास बात यह है कि रिमोट कंट्रोल के जरिए भी इस मशीन को ऑपरेट किया जा सकता है।