आगरा में 12वीं की छात्रा को दरोगा ने लात-घूंसों से पीटा, मां ने पकड़े दरोगा के पैर


आगरा ब्यूरो। आगरा के थाना छत्ता की जीवनी मंडी चौकी प्रभारी ने झगड़े के बाद घर में घुसकर जमकर उत्पात मचाया। घर में सिर्फ महिलाएं होने के चलते जब परिवार ने घर में आने को मना किया तो दरोगा ने दरवाजा तोड़कर पूरे परिवार से अभद्रता कर दी। जब परिवार की बेटी उन्हें रोकने आई तो दरोगा ने उसे लात-घूंसों और लाठियों से बुरी तरह पीटा दिया। बेटी को बचाने के लिए मां को दरोगा के पैर पकड़ने पड़े। यह पूरा मामला सीसीटीवी में कैद हो गया। मंगलवार को पीड़िता सीसीटीवी फुटेज लेकर एसएसपी कार्यालय पहुंच गई और रोते हुए अपनी पीड़ा बताई। मामले में एसएसपी ने जांच के आदेश दिए हैं। पुलिस के मुताबिक, मामला थाना छत्ता अन्तर्गत जीवनी मंडी क्षेत्र का है। यहां सोमवार रात किसी व्यक्ति से झगड़ा होने की जानकारी पर चौकी प्रभारी प्रभात सागर कार्रवाई के लिए पहुंचे थे। प्रभात सागर गलती से झगड़ा करने वालों की जगह दूसरे घर में जाकर दरवाजा खटखटाने लगे। पीड़ित परिवार ने घर में सिर्फ महिलाएं होने की बात कही और रात में अचानक इस तरह घर में घुसने का कारण पूछा। इस बात से दरोगा प्रभात सागर का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने लातें मारकर पहले दरवाजा तोड़ा और दो बुजुर्ग महिलाओं से अभद्रता की। इसका विरोध जब परिवार की बेटी 12वीं की छात्रा ने किया तो दरोगा ने उसको लात घूंसों और डंडे से जमकर पीटा। उसे बचाने आई पीड़िता की मां ने जब दरोगा के पैर पकड़ लिए तो भी दरोगा का गुस्सा कम नहीं हुआ और वो गाली-गलौज करता हुआ वहां से चला गया। युवती की दरोगा द्वारा पिटाई की इस हरकत का वहां मौजूद किसी पुलिसकर्मी ने विरोध नहीं किया। 
सीसीटीवी में कैद हुई घटना
घटना पीड़िता के घर के सामने लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। मंगलवार को पीड़िता सीसीटीवी फुटेज लेकर एसएसपी कार्यालय पहुंची और रो-रोकर न्याय की गुहार लगाई। युवती की गुहार सुनते हुए एसएसपी आगरा बबलू कुमार ने तत्काल सीओ छत्ता विकास जायसवाल को घटना की जांच कर रिपोर्ट देने के आदेश जारी किए हैं। उनका कहना है कि रिपोर्ट आने पर आवश्यक विधिक कार्रवाई की जाएगी।