भारत-चीन सीमा पर तैनात हैं दोनों बेटे, पिता बोले, 'हम लद्दाखी हैं, डरते नहीं'


लद्दाख। लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव बरकरार है। इस बीच भारतीय सेना के जवान चट्टान की तरह देश की सीमाओं की सुरक्षा में बॉर्डर पर खड़े हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों से आने वाले भारतीय सैनिक उत्साह और वीरता से भरे हैं। सीमा पर तैनात स्काउट्स में में लद्दाख के रहने वाले सैनिकों की भी काफी संख्या है। इन सैनिकों के परिजन भी देश सेवा में जुटे अपने बेटों पर गर्वित हैं। लद्दाख के रहने वाले सैनिक के ऐसे ही एक परिवार ने सीमा पर तैनात अपने बेटे को लेकर गर्व का इजहार किया है। परिवार के सदस्यों ने कहा है कि उन्हें गर्व है कि उनका बेटा देश के लिए लड़ाई लड़ रहा है। सैनिक के पिता ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि उनके दो बेटे हैं। दोनों ही लद्दाख में भारत-चीन की सीमा पर तैनात हैं। सैनिक के पिता कहते हैं कि एक अभिभावक के तौर पर वह बिल्कुल भी डरे नहीं हैं। उन्होंने कहा, हम लद्दाखी हैं और हम प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करना जानते हैं। गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच लद्दाख में सीमा विवाद को लेकर तनावपूर्ण हालात हैं। दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प भी हो चुकी है, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। विवाद के निपटारे को लेकर दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों की बातचीत जारी है।