बिकरू कांड के सभी 35 नामजद सलाखों के पीछे, कहां है विकास दुबे की सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन?



  • बिकरू कांड में सभी नामजद 35 आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं

  • अब तक विकास दुबे की सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन नहीं मिली

  • पुलिस ने बिकरू गांव में कुएं से लेकर तालाब तक की थी तलाश

  • विकास ने इसी कार्बाइन से पुलिस वालों पर गोलियां बरसाई थीं


कानपुर ब्यूरो। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन से पुलिस कर्मियों पर गोलियां बरसाई थीं। बिकरू हत्याकांड के 69 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस इस सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन की तलाश नहीं कर पाई है। पुलिस ने असलहों की बरामदगी के लिए बिकरू गांव के कुएं से लेकर तालाब तक सर्च ऑपरेशन चलाया था , लेकिन हाथ कुछ नहीं लगा। इन सबके बीच बिकरू कांड के सभी नामजद आरोपी जेल पहुंच चुके हैं। उनकी निशानदेही पर पुलिस सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन को बरामद नहीं कर सकी है। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने बीते 2 जुलाई की रात अपने गुर्गों के साथ मिलकर पुलिस कर्मियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। यूपी को हिला देने वाले इस कांड में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। फायरिंग में आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल हुए थे। बदमाशों ने अत्याधुनिक असलहों से पुलिस कर्मियों को टारगेट किया था। इस हत्याकांड के बाद पुलिस ने विकास दुबे समेत उसके छह साथियों को एनकाउंटर में मार गिराया था।
सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन से बरसाई थीं गोलियां
सूत्रों के मुताबिक विकास दुबे ने सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन से अमेरिकन विंचेस्टर कारतूस चलाए थे। विंचेस्टर कारतूसों का इस्तेमाल 1962 में अमेरिका और इंग्लैंड की सेनाएं करती थीं, लेकिन 70 के दशक में इन कारतूसों का इस्तेमाल बंद हो गया था। पुलिस सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन को बरामद नहीं कर पाई। ऐसे में यह सवाल उठता है कि यह कार्बाइन कहां है और किसके पास है।
कुएं से लेकर तालाब तक पुलिस ने चलाया था सर्च ऑपरेशन
बिकरू हत्याकांड के बाद पुलिस ने विकास दुबे के घर के पास बने कुएं और गांव के तालाब में असलहों की बरामदगी के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया था। पुलिस ने कुएं और तालाब का पानी निकलवा कर असलहों को ढूंढा, लेकिन पुलिस के हाथ खाली रहे। दरअसल पुलिस को शक था कि बदमाशों ने वारदात के बाद कुएं या फिर तलाब में असलहों को छिपाया है।
सभी नामजद आरोपी पहुंचे जेल फिर भी नहीं बरामद असलहे
बिकरू हत्याकांड के 35 नामजद आरोपी जेल पहुंच चुके हैं। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों और कोर्ट से रिमांड पर लिए आरोपियों के असलहों के संबंध में पूछताछ की। लेकिन उसे ज्यादा कुछ हासिल नहीं हुआ। बदमाशों ने जो पुलिस के हथियार लूटे थे वे बरामद हो गए हैं। इनमें एक एके-47 भी शामिल थी।
पुलिस ने बदमाशों से बरामद किए हैं 17 असलहे
बिकरू हत्याकांड के बाद पुलिस ने बदमाशों की निशानदेही पर 17 असलहे बरामद किए हैं। जिसमें पुलिस से लूटे गए 5 असलहे भी शामिल हैं। इसके साथ दो डबल बैरल बंदूक, चार रायफलें, सात तमंचे, देसी बम और बड़ी मात्रा में कारतूस बरामद हुए हैं। फिलहाल पुलिस अभी सेमी ऑटोमेटिक कार्बाइन की तलाश में जुटी है।