चीन की बस गीदड़भभकी? सीमा पर चीनी सैनिकों की तैयारी बयां कर रही कुछ और ही कहानी



  • भारत और चीन के बीच चरम पर पहुंचा तनाव

  • इस बीच, विदेश एस जयशंकर आज रूस में चीनी विदेश मंत्री से करेंगे मुलाकात

  • वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन ने हथियारों और सैनिकों की तैनाती बढ़ाई

  • पर चीन की आधी-अधूरी तैयारी कुछ अलग ही कहानी बयां कर रही है


नई दिल्ली ब्यूरो। भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर पहुंच चुका है। दोनों देशों की सेनाएं वास्तविक नियंत्रण रेखा पर आमने-सामने खड़ी हैं और स्थिति बेहद गंभीर है। सूत्रों के अनुसार, ड्रैगन ने LAC पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती बढ़ा तो दी है लेकिन उसकी आधी-अधूरी तैयारी कुछ अलग ही कहानी बयां कर रही है। इस बीच, आज विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच मॉस्को में एक अहम बैठक होने वाली है जिसमे तनाव कम करने को लेकर बातचीत हो सकती है।
युद्ध लायक नहीं है चीन की तैयारी
भारतीय सुरक्षाबलों के अनुसार भले ही चीन ने LAC पर 50 हजार सैनिकों की तैनाती कर रखी हो लेकिन उसकी स्थिति अभी युद्ध के लिए तैयार जैसी नहीं दिख रही है। सेना सूत्रों के अनुसार चीन ने शिनजियांग और तिब्बत में करीब 150 लड़ाकू विमान और अन्य एयरक्राफ्ट तैनात कर रखे हैं लेकिन उसकी तैयारियां युद्ध जैसी नहीं हैं। एक भारतीय अधिकारी ने बताया कि अगर चीन युद्ध शुरू करना चाहता तो उसे इसका भारी खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
भारत की है पूरी तैयारी
अधिकारी ने बताया कि चीनी सेना कुछ अन्य चोटियों पर कब्जा करने की कोशिश कर सकती है लेकिन भारतीय सेना इसके लिए पूरी तरह तैयार है। लोकल लेवल पर भारतीय कमांडरो को अपने स्तर पर कार्रवाई करने की पूरी छूट है। ऊंचाई पर तैनात भारतीय सैनिक बेहतरीन हथियारों से लैस हैं और पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने बताया कि हमने भी रेचिन ला के करीब टैंकों की तैनाती कर दी है।
यी-जयशंकर वार्ता से घटेगा तनाव?
SCO समिट के इतर होने वाले जयशंकर-यी बातचीत पर अब सबकी नजरें टिकी हुई हैं। चीनी विदेश मंत्रालय ने हालांकि अभी इस बैठक की पुष्टि नहीं की है जबकि वह लगातार इसके लिए आग्रह करता रहा है। पर चीन के सूत्रों ने बताया ये बैठक होगी चाहे भले ही इसकी पुष्टि नहीं हुई हो। इस बैठक में दोनों पक्षों को LAC पर मौजूदा स्थिति पर बात करनी होगी। क्योंकि भारतीय सेना ने कुछ दिन पहले कहा था कि चीनी सेना ने 45 साल में पहली बार LAC पर गोलियां चलाई थीं। भारत ने चीन के उन आरोपों से साफ इनकार किया है कि उसकी सेना ने LAC पार की है।