दो शातिर जादूगरनी ने नोएडा दिल्ली और गाजियाबाद के सैकड़ों लोगों को प्यार भरी बातों से लगाया लाखों का चुना


गाजियाबाद। मुरादनगर पुलिस ने गिरोह के महिला समेत दो ऐसे ठगों को गिरफ्तार किया है। जो कि जेब-कतरों से एटीएम कार्ड खरीदते है और उसका इस्तेमाल एटीएम मशीन पर रूपए निकालने पहुंचे कम पढे लिखे लोगों का एटीएम कार्ड बदल देते थे। ठगी की पता भी न चले इसके लिए महिला साथी का इस्तेमाल करते है, जो कि प्यारी-प्यारी बातों में फंसाकर उनका पिन कोड पूछकर ठगी की वाररदात को अंजाम देते है। आरोपित पिछले दो वर्षो से एनसीआर क्षेत्र में ठगी की वारदात को अंजाम दे रहे है। मुरादनगर थाना प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि पुलिस ने कब्जे से 86 एटीएम कार्ड विभिन्न बैंको के बरामद किए है। गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में पुलिस दबिश डाल रही है। सक्को वाली गली निवासी डॉ. महबूब मैन रोड स्थित एक एटीएम से पैसे निकालने के लिए शनिवार सुबह गए थे। वहां पर दो तीन युवक-युवतियां पहले से ही खड़े थे। डॉक्टर महबूब जैसे ही पैसे निकालने के लिए एटीएम बूथ के अंदर पहुंचे तो सर्वर डाउन होने के कारण उनके पैसे नहीं निकल सके। इसी बीच एटीएम बूथ के अंदर दो युवतियां पहुंच गई और उन्हें बातों में लगा लिया। बात करते-करते डॉक्टर महबूब को सम्मोहित और कर दिया। जब तक डॉक्टर महबूब कुछ समझ पाते तो उसी बीच युवक युवतियां भागने लगे। डॉक्टर महबूब ने भी उनका पीछा करते हुए इसकी सूचना पुलिस को दे दी। थाना प्रभारी ने बताया पीडि़त की सूचना पर तत्काल कार्रवाई करतेे हुए रावली रोड नवीन मडी के पास से शहजाद पुत्र सलीम निवासी चांद मस्जिद ईदगाह रोड लोनी, आयशा पत्नि शादाब खान निवासी विजय पार्क मौजपुर दिल्ली को गिरफ्तार किया गया है। गिरोह का साथी अरमान पुत्र फारूख फरार है। आरोपितों के पास से घटना में प्रयुक्त चोरी की बाइक, 86 विभिन्न बैंक के एटीएम कार्ड, 5200 रूपए बरामद किया गया। पकड़े गये आरोपियों के खिलाफ मुरादनगर, गौतमबुद्धनगर थाने में 3 मुकदमे दर्ज है। पूछताछ के दौरान यह गिरोह लोगों के एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर उनके खाते से पैसे निकाल लेता है। आरोपित शहजाद पूर्व में गौतमबुद्धनगर से जेल गया है, जो कि डेढ वर्र्ष जेल में सजा काटकर हाल ही में जेल से छूटकर आया है।