हाथरस गैंगरेप: पीड़िता के परिवार को उन्नाव कांड जैसा हश्र करने की धमकी, गांव में पीएसी तैनात



  • यूपी के हाथरस में दलित युवती के साथ हुई गैंगरेप की घटना में चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए

  • पीड़िता के परिजनों को ऊंची जाति के लोगों से उन्नाव कांड जैसा हश्र करके जान से मारने की धमकी

  • 14 सितंबर को युवती के साथ हुआ था गैंगरेप, गैंगरेप के बाद की गई थी बर्बरता, युवती की जीभ काटी


हाथरस। यूपी के हाथरस में दलित युवती के साथ हुई गैंगरेप की घटना में चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए। पीड़िता वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत के बीच अपनी जिंदगी से जंग लड़ रही है। वहीं परिजनों का आरोप है कि गांव में ऊंची जाति के लोगों ने उन्नाव कांड जैसा हश्र करके उन्हें जान से मारने की धमकी दी है। पीड़िता के परिजनों ने बताया कि गांव में ठाकुर जाति के दबंग लोगों ने उन्नाव जैसी जघन्य घटना को दोहराने की बात करते हुए जान से मारने की धमकी दी है। पीड़ित परिजनों की शिकायत पर गांव के अंदर पीएसी तैनात कर दी गई है। पीड़िता के पिता ने कहा, 'बिटिया की रीढ़ की हड्डी टूट गई है जिससे उसके शरीर के आधे हिस्से ने काम करना बंद कर दिया है। बिटिया की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है।'
मामले में मायावती ने भी सुरक्षा-व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। मायावती ने ट्वीट किया, 'यूपी सरकार की अनन्त घोषणाओं व निर्देशों के बावजूद दलितों और महिलाओं पर अन्याय-अत्याचार, बलात्कार, हत्या की घटनायें नहीं रूक रही हैं तो इससे सरकार की नीयत पर सवाल उठना स्वाभाविक है। खासकर छात्राओं का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है तो ऐसी कानून-व्यवस्था किस काम की?' मायावती ने दूसरे ट्वीट में लिखा, 'यूपी के जिला हाथरस में एक दलित लड़की को पहले बुरी तरह से पीटा गया, फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया, जो अति-शर्मनाक व अति-निन्दनीय जबकि अन्य समाज की बहन-बेटियां भी अब यहां प्रदेश में सुरक्षित नहीं हैं। सरकार इस ओर जरूर ध्यान दे, बीएसपी की यह मांग।'
गैंगरेप के बाद काटी थी जीभ
बता दें कि यूपी के हाथरस के थाना चंदपा इलाके के गांव में 14 सितंबर को एक 19 साल की दलित युवती के साथ गांव के रहने वाले चार दबंग युवकों पर गैंगरेप का आरोप था। पीड़िता के साथ हैवानियत की गई थी। पुलिस के अनुसार, रेप के बाद उसकी जीभ भी काट दी गई थी। जिसके बाद पीड़िता को अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। घटना के तीन आरोपी पहले ही गिरफ्तार हो चुके थे जबकि चौथे आरोपी को शनिवार शाम गिरफ्तार किया गया। आरोपियों की पहचान गांव के ही रहने वाले संदीप, लवकुश, रामू और रवि के रूप में हुई थी। हाथरस पुलिस अधीक्षक ने बताया कि संदीप को 14 सितंबर को ही गिरफ्तार कर लिया गया था। घटना के कई दिन बीत जाने के बाद पुलिस ने रामू और लवकुश को गिरफ्तार किया। वहीं फरार चल रहे चौथे आरोपी रवि को 26 सितंबर को पुलिस ने गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया गया है।
14 सितंबर को रेप का आरोप
हाथरस के थाना चंदपा इलाके के गांव में 14 सितंबर को चार दबंग युवकों ने 19 साल की दलित लड़की के साथ बाजरे के खेत में गैंगरेप किया था। इस मामले में पुलिस ने लापरवाही भरा रवैया अपनाया। रेप की धाराओं में केस ना दर्ज करते हुए छेड़खानी के आरोप में एक युवक को हिरासत में लिया। इसके बाद उसके खिलाफ धारा 307 (हत्या की कोशिश) में मुकदमा दर्ज किया गया था।
9 दिन बाद होश में आकर पीड़िता ने सुनाई आपबीती
घटना के 9 दिन बीत जाने के बाद पीड़िता होश में आई तो अपने साथ हुई आपबीती अपने परिजनों को बताई। जब पीड़िता का डॉक्टरी परीक्षण हुआ तो इसमें गैंगरेप की पुष्टि होने के बाद हाथरस पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार किया। बाद में चौथा आरोपी भी गिरफ्तार कर लिया गया।