हनीट्रैप कर ब्लैकमेलिंग की कोशिश, पूर्व होमगार्ड समेत 3 गिरफ्तार



  • राजधानी दिल्ली में हनीट्रैप गैंग का हुआ पर्दाफाश

  • ऐप के जरिए दोस्ती करके कारोबारी को ब्लैकमेल करने की कोशिश

  • मामले में पूर्व होम गार्ड समेत 3 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया


नई दिल्ली ब्यूरो। चैट करके गुरुग्राम से कारोबारी को दिल्ली के फ्लैट में मौज-मस्ती के लिए बुलाकर 5 लाख रुपये की ब्लैकमेलिंग का मामला सामने आया है। पुलिस की वर्दी में आए एक शख्स ने कारोबारी पर युवती से बलात्कार का आरोप लगाते हुए उसकी पिटाई कर दी। रेप केस दर्ज करने की धमकी देते हुए 5 लाख मांगे। जैसे-तैसे कारोबारी वहां से भागते हुए बुध विहार थाने पहुंचा। जिसके बाद महिला समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि युवती फरार हो गई। डीसीपी पीके मिश्रा के मुताबिक यह हनीट्रैप गैंग है। गिरफ्तार आरोपियों में सुनील पूर्व होमगार्ड है। वह होमगार्ड की वर्दी का मिसयूज कर रहा था। इसके खिलाफ इसी तरह के दो केस पहले विजय विहार थाने में दर्ज हो चुके हैं। वह जेल भी जा चुका है। पुलिस के मुताबिक, 47 वर्षीय शख्स परिवार के साथ गुरुग्राम में रहता है। पेशे से कारोबारी है। 7 सितंबर को सुबह 11 बजे एक युवती से फोन पर उसकी बात हुई। फिर ट्रूली मेडिली ऐप के जरिए दोनों की चैट हुई। युवती ने बताया कि वह पीतमपुरा स्थित एक फाइनेंस कंपनी में सेल्स एग्जीक्यूटिव है। उसने यह भी कहा कि वह जॉब चेंज करना चाहती है। कारोबारी ने युवती से कहा कि वह उसके यहां भी सेल्स एग्जीक्यूटिव की जॉब कर सकती है। इस पर युवती ने हामी भरते हुए कारोबारी को घर आकर मिलने को कहा। इस पर कारोबारी राजी हो गया। युवती ने शाम 8 बजे रिठाला मेट्रो स्टेशन के पास कारोबारी को बुलाया। कारोबारी तय टाइम पर अपनी इनोवा कार से 8 बजे रिठाला मेट्रो स्टेशन के पास पहुंचा। जहां आकर उसने युवती को फोन किया। करीब आधे घंटे बाद वह युवती एक अन्य महिला के साथ पहुंची। इसके बाद पास के ही एक ठेके से 4 बीयर की बोतल और खाने का कुछ अन्य सामान लेकर तीनों रोहिणी सेक्टर-5 के फ्लैट में पहुंचे। यहां पर तीनों ने बियर पी। थोड़ी देर बाद महिला ने कहा कि मैं बाहर होकर आती हूं। वह उठकर बाहर चली गई। थोड़ी देर बाद महिला दो अन्य लोगों के साथ वापस आई। जिनमें से एक ने पुलिस की यूनिफॉर्म पहनी हुई थी। उसने कारोबारी पर युवती से बलात्कार का आरोप लगाया और कारोबारी की पिटाई कर दी। आरोपियों ने 5 लाख रुपये की डिमांड की। वरना पुलिस में बलात्कार की एफआईआर दर्ज की धमकी दी। यह सुनकर कारोबारी डर गया। वह किसी तरह वहां से बचकर भागा और रास्ते में एक शख्स से थाने का पता पूछकर बुध विहार थाने पहुंचा। पुलिस को सारी बात बताई। पुलिस वहां पहुंची और महिला और दो लड़कों को पकड़ा। आरोपियों की पहचान बुराड़ी निवासी 35 वर्षीय तानिया, रोहिणी सेक्टर 22 निवासी 40 वर्षीय सुनील कुमार और आगरा के ताजगंज निवासी 25 वर्षीय सत्येंद्र सिंह के तौर पर हुई। जबकि युवती फरार थी। फिलहाल पुलिस यह पता लगा रही है कि इन्होंने कितने लोगों को शिकार बनाया है।