कानपुर में दो लड़कियों ने आपस में कर ली शादी, थाने में भिड़ गए परिवारवाले



  • कानपुर में परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर दो लड़कियों ने रचाई शादी

  • मंदिर में की शादी, किराए का मकान लेकर अलग रहती हैं दोनों लड़कियां

  • कीर्ति और नंदिनी ने पुलिस के सामने कहा- लड़कों से नफरत, पसंद नहीं

  • एक लड़की के परिजनों ने लगाया आरोप- उनकी बेटी अभी नाबालिग है


कानपुर। कानपुर में दो सहेलियों ने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर आपस में शादी कर ली। इसके बाद दोनों के परिजन भिड़ गए। दोनों लड़कियों के परिवारवालों ने पुलिस चौकी में जमकर हंगामा किया। यही नहीं, लड़कियों ने परिवार के साथ जाने से इनकार कर दिया। दोनों लड़कियों ने मंदिर में शादी की और किराए का मकान लेकर अलग रहने लगी हैं। कानपुर में इस अजब प्रेम कहानी की काफी चर्चा है। शादी करने वाली लड़कियों का कहना है कि हम दोनों बालिग हैं और अपनी मर्जी से शादी करने का अधिकार है। वहीं एक लड़की के परिवारवालों का आरोप है कि उनकी बेटी नाबालिग है और दूसरी लड़की कीर्ति के कहने पर घर से कैश और जेवरात लेकर गई है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है। बर्रा थाना क्षेत्र की कीर्ति तिवारी और पड़ोस में रहने वाली नंदिनी गौतम का एक साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों ही परिवारों को उनके प्रेम प्रसंग की जानकारी थी। हालांकि, परिवारवाले शादी को राजी नहीं थे। कीर्ति के परिवारवालों ने उसकी शादी 23 जनवरी 2019 को बर्रा सात में रहने वाले शंकर शुक्ला से कर दी थी। कीर्ति का आरोप है कि पति नशे में आए दिन मारपीट करता था और प्रताड़ित करता था। इस वजह से वह अक्टूबर 2019 में पति का घर छोड़कर मायके में रहने लगी थी।
'बदनामी का डर सता रहा था'
कीर्ति का कहना है, 'पति का घर छोड़ने के बाद मेरे संबंध पड़ोस में रहने वाली नंदिनी गौतम से हो गए। हम दोनों एक-दूसरे को पसंद करने लगे। हमने अपने-अपने परिवारवालों के सामने आपस में शादी करने का प्रस्ताव रखा था। परिवार इस शादी के लिए राजी नहीं था। सभी को समाज में होने वाली बदनामी का डर सता रहा था।' कीर्ति और नंदिनी ने बताया कि बीते 25 अगस्त को हम दोनों ने बिठूर के एक मंदिर में शादी कर ली थी। इसके बाद अपने-अपने घर में रहने लगे थे। बीते 23 सितंबर को दोनों घर से भागकर किराए का कमरा लेकर रहने लगी थीं। उनका कहना है, 'अब हम दोनों अलग नहीं रह सकते हैं, यदि हमें अलग करने का प्रयास किया तो दोनों लोग अपनी जान दे देंगे।' कीर्ति और नंदिनी ने पुलिस के सामने कहा, 'हमें लड़कों से नफरत है। लड़के बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं।' कीर्ति ने कहा, 'मेरे परिवार वालों ने मेरी शादी कराई थी, वह लड़का मेरे साथ मारपीट करता था। नशे की हालत में मुझे प्रताड़ित करता था। इस वजह से मुझे लड़कों से नफरत हो गई है।'
थाने में खूब हुआ ड्रामा
नंदिनी के परिवार ने बर्रा चौकी में तहरीर देकर आरोप लगाया है कि कीर्ति उनकी नाबालिग बेटी को अगवा कर ले गई है। कीर्ति के कहने पर नंदिनी घर से जेवरात और नगदी भी ले गई है। इस तहरीर के अधार पर पुलिस ने दोनों लड़कियों को चौकी बुलाया। बर्रा चौकी में दो घंटे तक हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा। दोनों ही परिवार आपस में एक-दूसरे से भिड़ गए। नाबालिग होने के आरोप की पुलिस फिलहाल जांच कर रही है।