कानपुर में एक और संजीत यादव कांड न हो जाए! 4 दिन से लापता सुनील, 2 हिरासत में


कानपुर ब्यूरो। कानपुर की बर्रा पुलिस संजीत यादव अपहरण हत्याकांड से उबर भी नहीं पाई कि एक और मामला सामने आ गया। बर्रा इलाके में ही रहने वाला एक युवक बीते चार दिनों से रहस्मयी तरीके से लापता है। परिजनों का आरोप है कि सुनील का अपहरण किया गया है। परिजनों का कहना है कि पुलिस को जो करना है वो जल्दी करे, संजीत मामले की तरह लापरवाही नहीं बरते। फिलहाल पुलिस दो युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। बर्रा थाना क्षेत्र स्थित बर्रा 7 में रहने वाले सुनील यादव बीते चार सितंबर से लापता हैं। परिवार में पत्नी उर्मिला और बेटी अदिति के साथ रहते हैं। परिजनों का आरोप है कि मोहल्ले में रहने वाले सोनू विश्वकर्मा ने ही अपहरण किया है। दरअसल सोनू विश्वकर्मा ने सुनील यादव से मकान किराये पर ले रखा था। सुनील उस मकान को बेचना चाहते थे, लेकिन सोनू मकान खाली करने को तैयार नहीं था। इस बात को लेकर सुनील यादव और सोनू के बीच कई बार बहस हो चुकी थी।
फोन कर बुलाया गया था सुनील को
सुनील यादव की पत्नी उर्मिला के मुताबिक चार सितंबर को सोनू ने फोन कर पति को बुलाया था कि मकान खाली कर रहे हैं और इसकी चाबी ले जाओ। सोनू का फोन आने बाद ही पति चाबी लेने के लिए चले गए थे। लेकिन इसके बाद से वो वापस नहीं लौटे। मेरे परिवार ने उनकी काफी खोजबीन की लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला। उर्मिला का आरोप है कि सोनू ने ही पति का अपहरण किया है। सोनू के घर से पहले एक सीसीटीवी कैमरा लगा है, जिसमें पति जाते हुए तो देखे गए हैं, लेकिन आते हुए नहीं दिखे। सुनील की पत्नी उर्मिला के मुताबिक पति को लापता हुए चार दिन हो गए हैं। अब तो किसी अनहोनी की आशंका सताने लगी है। क्योंकि सोनू ने जिस दिन पति को चाबी लेने के बुलाया था, उसने चारों तरफ अपने गुर्गों को लगा रखा था। उसी ने पति को गायब कराया है।
'संजीत जैसी लापरवाही न करे पुलिस'
सुनील की पत्नी का कहना है , 'जिस प्रकार पुलिस ने संजीत के मामले में लापरवाही बरती थी, अब उस गलती को पुलिस न दोहराए। संजीत हत्याकांड के बारे में सोचकर डर लगता है। पुलिस दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस को जो भी करना है जल्दी करे। पकड़े लोगों से और भी सख्ती से पूछताछ करे।'
पुलिस बोली- मोबाइल बिहार में हो रहा इस्तेमाल
सीओ गोविंद नगर विकास पांडेय के मुताबिक सुनील यादव चार सितंबर से लापता हैं। परिजनों ने 5 तारीख को गुमशुदगी दर्ज कराई, इस आधार पर जांच की गई तो पता चला कि सुनील यादव का मोबाइल बिहार के जहानाबाद में इस्तेमाल किया जा रहा है। उस शख्स को पकड़ने के लिए हमारी टीम जहानाबाद गई है। मोबाइल या मोबाइल इस्तेमाल करने वाला हमारे हाथ लग जाएगा, तो पूरे घटनाक्रम का खुलासा हो जाएगा। सुनील के परिजनों ने अपहरण की तहरीर नहीं दी है।