कानपुर में ऑनलाइन सेक्स रैकेट का पर्दाफाश,बीवी को भी भेजता था ग्राहकों के पास!



  • कानपुर में ऑनलाइन सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, 2 महिलाएं हिरासत में

  • सेक्स रैकेट ऑपरेटर अपनी पत्नी को भी ग्राहकों के पास भेजा करता था

  • कानपुर पुलिस के पास ट्विटर के जरिए सेक्स रैकेट की आई थी शिकायत

  • फर्जी ग्राहक बनकर कॉन्स्टेबल ने शिकायत में दिए नंबर पर किया संपर्क


कानपुर ब्यूरो। कानपुर में पुलिस ने एक बड़े सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने खुद ग्राहक बनकर सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया। पुलिस ने मौके से सेक्स रैकेट संचालक, उसकी सास और एक युवती को गिरफ्तार किया है। तफ्तीश में पता चला है कि आरोपी सेक्स रैकेट ऑपरेटर अपनी पत्नी को भी ग्राहकों के पास भेजा करता था। पुलिस ने जाल बिछाते हुए एक सिपाही को ग्राहक बनाकर वॉट्सऐप नंबर पर कॉलिंग कराई। इसके बाद सेक्स रैकेट संचालक ने कई लड़कियों की फोटो वॉट्सऐप पर भेजी। पुलिस ने मौके पर छापेमारी करके संचालक और दो महिलाओं को दबोच लिया। इस दौरान पुलिस ने कई आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद की है। बताया जा रहा है कि संचालक अपनी पत्नी को भी ग्राहकों के पास भेजता था। फिलहाल संचालक की पत्नी मौके से फरार हो गई है। चकेरी थाना क्षेत्र स्थित शिवकरटरा रोड पर देह व्यापार का धंधा तीन साल से फल-फूल रहा था। आरोपी सेक्स रैकेट संचालक दीपक सिंह कोलकाता का रहने वाला है। दीपक सिंह ने दूसरे समुदाय की युवती पूजा सिंह उर्फ फरजाना खातून से शादी की थी। वह सास सरवरी बेगम और पत्नी पूजा सिंह उर्फ फरजाना के साथ शिवकटरा रोड पर रहता था। सेक्स रैकेट के लिए दीपक पश्चिम बंगाल, झारखंड और ओडिशा से लड़कियों को बुलाता था।
अंशू सिंह नाम के एक शख्स ने मोबाइन नंबर के साथ ट्विटर पर कानपुर पुलिस, एडीजी जोन, आईजी जोन को टैग करते हुए शिकायत की थी। एडीजी ने तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। इसके बाद चकेरी पुलिस ने सेक्स रैकेट का पर्दाफाश करने के लिए जाल बिछाया था।
पुलिस ने बिछाया जाल
पुलिस ने सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करने के लिए योजना बनाई। ट्विटर पर की गई शिकायत पर दिए गए नंबर पर सिपाही ने फर्जी ग्राहक बनकर संपर्क किया। संचालक से बात होने पर फोटो भेजने के लिए कहा गया। संचालक ने दो लड़कियों की पांच फोटो अलग-अलग पोज में भेजी। फर्जी ग्राहक बनकर सिपाही ने एक लड़की की फोटो पसंद की। संचालक ने बताया कि एक नाइट का 8 हजार रुपये लगेगा और पेमेंट कैश देना होगा। लड़की को बताए गए पते पर भेज दिया जाएगा। सेक्स रैकेट की तस्दीक होने के बाद पुलिस ने छापेमारी कर दो महिलाओं समेत संचालक को पकड़ लिया।
पकड़ी गई युवती कोलकाता की
पुलिस ने दीपक सिंह के फ्लैट से एक कॉलगर्ल को भी पकड़ा है। आरोपी युवती कोलकाता की रहने वाली है। पूछताछ में उसने बताया कि पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड से लड़कियों को 15 दिन या फिर एक हफ्ते के लिए कमीशन पर बुलाया जाता था। लड़कियों को संचालक ग्राहक के बताए गए पते पर भेजता था। उसका अलग से चार्ज वसूला जाता था। यदि ग्राहक खुद फ्लैट पर आता था तो उसका अलग चार्ज लिया जाता था।
कैसे होता था ऑनलाइन सेक्स रैकेट का संचालन
सेक्स रैकेट संचालक दीपक सिंह ने पुराने ग्राहकों के लिए एक वॉट्सऐप ग्रुप भी बनाकर रखा था। पुराने ग्राहकों को पश्चिम बंगाल से आने वाली लड़कियों की फोटो भेजता था। इसके साथ ही वह वॉट्सऐप नंबर का इस्तेमाल करता था। नए ग्राहकों से वॉट्सऐप कॉलिंग के जरिए वह बात करता था। इसके बाद फोटो और रेट भेजता था। ग्राहक के बताए गए पते पर कॉलगर्ल को भेजा जाता था। सीओ कैंट सत्यजीत गुप्ता के मुताबिक शिवकटरा में सेक्स रैकेट संचालित था। दो महिलाओं समेत संचालक को पकड़ा गया है। इन पर अनैतिक देह व्यापार अधिनियम का मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा गया है।