कोरोना पीड़ित कैदी एलएनजेपी अस्पताल की छठी मंजिल से हुआ फरार


नई दिल्ली ब्यूरो।  राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर 14 सितंबर को मोबाइल चोरी के आरोप में एक युवक को पकड़ा गया था। अदालत ने 15 सितंबर को उसे न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया था। वह कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया। लिहाजा जेल प्रशासन ने उसे दिल्ली गेट स्थित एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया। निगरानी के लिए दो पुलिसकर्मी तैनात किए। आरोपी 18 सितंबर को अस्पताल की छठी मंजिल से फरार हो गया। सेंट्रल जिले के आईपी एस्टेट थाने को इसकी इत्तला दी गई। कस्टडी से फरार होने और खतरनाक बीमारी फैलाने की आशंका के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया। डीसीपी (सेंट्रल) संजय भाटिया ने बताया कि आरोपी कैदी अभी फरार है, उसकी तलाश की जा रही है। आरोपी सोनी उर्फ महताब (33) नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के शास्त्री पार्क स्थित बुलंद मस्जिद का रहने वाला है। राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन से उतरते समय एक पैसेंजर ने उसे जेब से मोबाइल निकालते हुए 14 सितंबर की सुबह दबोच लिया था। मेट्रो पुलिस ने चोरी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। अदालत ने उसे तिहाड़ जेल भेज दिया, जहां उसे सेंट्रल जेल नंबर-3 में रखा गया था। मेडिकल जांच की गई तो वह कोविड पॉजिटिव पाया गया। इलाज के लिए 17 सितंबर को एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। अस्पताल की छठी मंजिल स्थित सर्जिकल वॉर्ड में आरोपी को रखा गया था। अंडर ट्रायल कैदी होने की वजह से दिल्ली आर्म्ड पुलिस के दो सिपाही कपिल और संजीव आरोपी की निगरानी के लिए तैनात किए गए। दोनों पुलिसकर्मियों ने अपनी बटालियन के अफसरों को 18 सितंबर की शाम को बताया कि कैदी सोनी उर्फ महताब फरार हो गया है। इससे हड़कंप मच गया और सेंट्रल जेल कमांड रूम में तैनात इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह यादव तत्काल एलएनजेपी अस्पताल पहुंचे। सीसीटीवी फुटेज देखने पर पता चला कि सोनी उर्फ महताब आखिरी बार दोपहर करीब 1:59 बजे बाथरूम जाता दिख रहा है। आशंका जताई जा रही है कि वह छठी मंजिल के बाथरूम से फरार हुआ है।