'लेडी गोडसे' बोलीं- राम रहीम जैसे संत जेल में तो क्रिमिनल केस वाले 233 सांसद बाहर क्यों



  • गाजियाबाद में राष्ट्रीय जनमोर्चा के बैनर तले एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया

  • कार्यक्रम में डॉ. पूजा नंदगिरी ने कहा, आपराधिक केस वाले सांसदों को भी जेल में होना चाहिए

  • पूजा नंदगिरी को लेडी गोडसे के नाम से भी जाना जाता है, पूजा बोलीं- 542 में 233 पर क्राइम केस


गाजियाबाद ब्यूरो। राष्ट्रीय जनमोर्चा के बैनर तले गाजियाबाद में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। इसमें अलीगढ़ में महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने के बाद चर्चा में आईं महंत डॉ. पूजा नंद गिरी ने भी हिस्सा लिया। डॉ. पूजा नंद गिरी ने जेल में बंद संत राम रहीम समेत तमाम हिंदू साधु संतों की वकालत करते हुए कहा कि संसद में बैठे 542 सांसदों में से 233 ऐसे सांसद हैं, जिन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से 22 सांसदों के खिलाफ अत्याचार से जुड़े और दुष्कर्म से संबंधित मामले भी दर्ज हैं। इस वजह से उन्हें भी संसद में नहीं बल्कि जेल में होना चाहिए। हिंदू सेवा संस्थान की न्यासी डॉ. पूजा नंदगिरी ने अलीगढ़ के आजाद भवन में महात्मा गांधी की फोटो को गोली मारी थी। इस मामले ने देश भर में तूल पकड़ा और पूजा नंदगिरी को जेल की हवा खानी पड़ी थी। इसके बाद से उन्हें लेडी गोडसे भी कहा जाता है। पूजा नंदगिरी ने कहा कि एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक, 542 सांसदों में से 233 सांसदों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से 22 सांसदों पर महिलाओं के खिलाफ अत्याचार से जुड़े और दुष्कर्म से संबंधित मामले दर्ज हैं। ऐसे सांसद आज संसद में जमे बैठे हैं। पूजा नंदगिरी ने कहा कि हमारी भारतीय संस्कृति को बचाने वाले और मानवता की भलाई के कार्य करने वाले तथा 100 से ज्यादा गिनेस बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड, एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड, एवं इंडिया बुक ऑफ रेकॉर्ड बनाकर देश का नाम पूरी दुनिया में करने वाले राम रहीम जैसे हिंदू संत आज जेल के अंदर हैं। यह बड़े ही दुःख की बात है और यदि वह जेल में जा सकते हैं तो दागी सांसद क्यों नहीं।