मध्य प्रदेश में जेल विभाग ने मृत जेल प्रहरी का ही कर दिया स्थानांतरण


भोपाल। मध्य प्रदेश के जेल विभाग ने एक मृत प्रहरी का ही स्थानांतरण कर दर दिया। यह मामला भोपाल के कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद द्वारा उठाए जाने के बाद संज्ञान में आया। जिसको लेकर कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को पत्र भी लिखकर जेल डीजी संजय चौधरी के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। विधायक आरिफ मसूद का आरोप है कि जेल विभाग द्वारा प्रहरियों के स्थानांतरण में भारी भ्रष्टाचार के चलते मृत व्यक्ति का भी ट्रांसफर कर दिया जा रहा है। वर्तमान में पुलिस महानिदेशक जेल संजय चौधरी, जिनका भ्रष्टाचार से पुराने नाता रहा है। उन्होंने मृतक रशीद खान प्रहरी का तबादला आदेश जारी करवा दिया। आरिफ मसूद ने कहा कि शिवराज सरकार में तबादला उद्योग खोल रखा है, जिसके चलते अधिकारी तबादलों में लगे हैं और शिवराज चुनाव में लगे हैं। प्रदेश में सरकार नाम की कोई चीज नही है। जेल विभाग द्वारा 09 सितंबर को जारी स्थानांतरण की लिस्ट में मृतक जेल प्रहरी रशीद खान का भी नाम है जिनका देहांत तीन महिने पहले ही हो चुका है। कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने इस पूरे मामले को संज्ञान में लाने के बाद भाजपा की शिवराज सरकार पर तबादला उद्योग चलाने के आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में बीजेपी नेता सरकार पर तबादला उद्योग चलाने के आरोप लगाते थे। लेकिन खुद ट्रांसफर उद्योग चला रहे है जिसमें मर चुके लोगों के भी ट्रांसफर किए जा रहे है। भोपाल से कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने जेल डीजी संजय चौधरी पर लगाते हुए मृत प्रहरी का ट्रांसफर करने पर गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा को पत्र लिखकर जेल डीजी चौधरी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। आरिफ मसूद ने पत्र में कहा है कि जेल विभाग ने 9 सितंबर को 10 प्रहरियों का ट्रांसफर कर उन्हें नवीन पदस्थापना दी है, जिसमें 6 नंबर रशीद खान का भी नाम है। जबकि रशीद खान की तीन महीने पहले मौत हो चुकी है। उसके बाद भी ट्रांसफर लिस्ट में उनका नाम है।