मुख्तार अंसारी के बेटे उमर और अब्बास एफआईआर के बाद फरार, पुलिस ने घोषित किया 25-25 हजार का इनाम



  • बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटों पर यूपी पुलिस ने कसा शिकंजा

  • मुख्तार के बेटों उमर और अब्बास के खिलाफ दर्ज हैं कई गंभीर धाराओं में एफआईआर

  • अब यूपी पुलिस ने फरार अब्बास और उमर पर घोषित किया 25-25 हजार का इनाम

  • बीते दिनों ढहाया गया था मुख्तार का लखनऊ में अवैध कब्जे वाला घर


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बाहुबली डॉन मुख्तार अंसारी के पर शिकंजा कसता जा रहा है। उनके दोनों बेटों उमर और अब्बास पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है। दोनों के ऊपर अवैध कब्जे, जालसाजी, साजिश रचने जैसे कई गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं। एफआईआर दर्ज होने के बाद से दोनों फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। उनका कुछ पता न चलने पर अब उन पर इनाम घोषित किया गाय है। अगस्त के अंतिम सप्ताह में मुख्तार अंसारी का अवैध कब्जे वाला घर गिराया गया था। यह इमारत उन्होंने लखनऊ के जियामऊ में बना रखी थी। इस कार्रवाई के बाद पुलिस ने सरकारी संपत्ति पर अवैध कब्जे के आरोप में मुख्तार अंसारी और उनके बेटों उमर अंसारी एवं अब्बास अंसारी पर शत्रु विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। लखनऊ के थाना हजरतगंज में जियामऊ इलाके के प्रभारी लेखपाल सुरजन लाल की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर के बाद से दोनों फरार हो गए थे। एफआईआर में आईपीसी की धारा 120बी, 420, 467, 468, 471 और सार्वजनिक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम 1984 की धारा 3 के तहत केस दर्ज हैं।
लेखपाल ने लगाए थे आरोप
लेखपाल ने आरोप लगाया था कि मुख्तार ने अपने बेटों के साथ मिलकर निष्करांत संपत्ति पर अवैध तरीके से कब्जा किया। इसपर नियम विरुद्ध निर्माण कराया। इसके अलावा इनपर फर्जी कागजों को तैयार कराने और धोखाधड़ी के चार्ज भी लगाए गए हैं।
सरकारी जमीन पर बना अवैध निर्माण ध्वस्त हुआ था
प्रशासन ने लखनऊ के जियामऊ इलाके में मुख्तार अंसारी के बेटों उमर और अब्बास अंसारी की दो मंजिला इमारत को जमींदोज कर दिया था। आरोप था कि यह इमारत निष्करांत संपत्ति पर अवैध रूप से बनाई गई थी, जिसका लखनऊ विकास प्राधिकरण में मुकदमा भी चल रहा था। इस इमारत को गिराने से पहले एक नोटिस भी भेजा गया था, जिसपर दूसरे पक्ष की ओर से कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया।
20 जेसीबी मशीनों ने गिराई इमारत
इस इमारत को कुल 8000 स्क्वॉयर फीट जमीन पर बनवाया गया था। पूर्व में इस इमारत को लेकर मुख्तार अंसारी के परिवार से जवाब भी मांगा गया था। इस इमारत को गिराने के लिए विभिन्न थानों की फोर्स मौके पर पहुंची थी। इसके साथ ही 20 से अधिक जेसीबी मशीनों को भी यहां पर लगाया गया था। इस कार्रवाई के दौरान अब्बास और उमर के कब्जे वाली दो मंजिला इमारत को जमींदोज कर दिया गया था।