तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति पर फेंका भगवा रंग, पास में मिली चप्पल, मामला दर्ज


तिरुचिरापल्ली। तमिलनाडु के प्रसिद्ध सुधारक और द्रविड़ विचारक ई. वी. रामास्वामी पेरियार की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ की घटना सामने आई है। पेरियार की मूर्ति पर भगवा रंग डालकर उसका रूप बिगाड़ने की कोशिश की गई। इस घटना पर नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पुलिस ने बताया कि रविवार तड़के तमिलनाडु के इनामकुलातुर के समतुवापुरम कॉलोनी में प्रतिमा के निकट चप्पल भी मिली है। उन्होंने बताया कि प्रतिमा को क्षतिग्रस्त करने को लेकर एक मामला दर्ज किया गया है। डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन समेत अन्य नेताओं ने हालिया कुछ महीनों में राज्य में हुई ऐसी दूसरी घटना की निंदा की है। इससे पहले, कोयंबटूर में भी पेरियार की प्रतिमा पर भगवा रंग पुता हुआ मिला था। इस घटना के खिलाफ स्थानीय लोगों ने कुछ देर के लिए डिंगीगुल राजमार्ग पर यातायात रोक दिया। पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें वहां से हटाया। स्टालिन ने प्रतिमा का रूप बिगाड़ने की निंदा करते हुए लोगों से ऐसी हरकतें करने वालों का बहिष्कार करने की अपील की। उन्होंने बिना किसी का नाम लिए फेसबुक पोस्ट में लिखा, 'उन लोगों को कब इस बात का एहसास होगा कि अगर वे बार-बार इसी तरह की हरकत करेंगे, तो लोग उनका और अधिक बहिष्कार करेंगे। पेरियार केवल एक आंदोलन के नेता भर नहीं हैं। वह तमिल पहचान के नेता हैं। जो लोग ऐसी हरकतें करके ये सोचते हैं कि हमने उनका (पेरियार का) अपमान किया है, वे खुद को अपमानित कर रहे हैं।' स्टालिन के अलावा पीएमके नेता एस रामदौस, एमडीएमके के संस्थापक तथा राज्य सभा सदस्य वाइको और एएमएमके नेता और निर्दलीय विधायक टीटीवी दिनाकरन ने भी इस घटना की निंदा की है।