यूपी के कानपुर में इंस्पेक्टर ने महिला फरियादी को दिए रेप में फंसाने के टिप्स, डीआईजी ने किया लाइन हाजिर


कानपुर ब्यूरो। यूपी पुलिस अपने कारनामों को लेकर हमेशा चर्चा में रहती है। नया मामला यूपी के कानपुर जिले से आया है, जहां नर्वल पुलिस इंस्पेक्टर का बयान सुर्खियों में छाया हुआ है। दरअसल नर्वल थाने के इंस्पेक्टर रामअवतार का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह एक महिला फरियादी की शिकायत पर आरोपी युवक को फटकार लगा रहे हैं। साथ ही इंस्पेक्टर महिला फरियादी को सलाह दे रहे हैं कि वो अगली बार ऐसा क्या करके आए कि पुलिस रेप का मुकदमा लिखकर आरोपी को जेल भेज दे। इंस्पेक्टर का यह वीडियो सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोर रहा है। आलम यह है कि हर ओर पुलिस की छिछालेदर हो रही है। ऐसे में इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए डीआईजी प्रीतिंदर सिंह से तत्काल प्रभाव से इंस्पेक्टर राम अवतार को लाइन हाजिर कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, नर्वल थाने के इंस्पेक्टर रामअवतार की गिनती गालीबाज इंस्पेक्टरों में होती है। इसका नमूना एक वायरल वीडियो में देखने को मिला है। वीडियो में साफ देखा जा सकता है जिस वक्त इंस्पेक्टर अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे, वहां एक महिला सिपाही भी खड़ी थी और महिला शिकायतकर्ता भी। नर्वल थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में महिला निमार्ण करा रही थी। उसका गांव के ही एक युवक ने विरोध किया था। इस बात को लेकर वादी और प्रतिवादी में विवाद हुआ था। महिला ने इसकी शिकायत पुलिस से की थी। दोनों पक्षों को थाने बुलाया गया था। इस मामले को इंस्पेक्टर ने प्रतिवादी को फटकार लगाकर खत्म करा दिया था। लेकिन उनकी ओर से महिला शिकायतकर्ता को सलाह देना और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करना भारी पड़ गया। इस्पेक्टर रामअवतार का कहना है कि यह चार महीने पुराना वीडियो है। किसी ने इस वीडियो को अब वायरल किया है। उन्होंने कहा कि मेरा मकसद था कि वादी और प्रतिवादी के बीच किसी तरह का विवाद नहीं हो, फटकार लगाकर शांत करा दिया जाए। नर्वल थाने के वायरल वीडियो में इंस्पेक्टर राम अवतार तो नहीं दिख रहे हैं, लेकिन उनकी आवाज साफ सुनाई दे रही है। इसके साथ ही महिला फरियादी रोते हुए अपना पक्ष इंस्पेक्टर के सामने रख रही है। तभी इंस्पेक्टर महिला फरियादी को सलाह देते हुए सनाई दे रहे हैं। वायरल वीडियो में महिला वादी, होमगार्ड और महिला सिपाही दिख रहे हैं।