बौद्ध बने दलितों ने केजरीवाल से की मुलाकात, आप नेता संजय सिंह ने सीएम योगी संग मायावती को भी घेरा



  • गाजियाबाद में दलित समुदाय के दो सौ से ज्यादा लोगों ने बौद्ध धर्म अपनाया

  • नाराज लोगों का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को अरविंद केजरीवाल से मिला

  • योगी राज में दलितों के अधिकारों को कुचला जा रहा है: संजय सिंह


नई दिल्ली ब्यूरो। हाथरस कांड को लेकर उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में दलित समुदाय के दो सौ से ज्यादा लोगों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। बुधवार देर शाम इनके एक प्रतिनिधि मंडल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात भी की। गाजियाबाद के करहेड़ा गांव के इलाके में आसपास की बस्तियों में रहने वाले 50 वाल्मीकि परिवारों के 236 लोगों ने बाबासाहेब आंबेडकर के परपोते राजरत्न आंबेडकर की मौजूदगी में धर्म परिवर्तन करते हुए बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी। केजरीवाल से मुलाकात के बाद इनके प्रतिनिधिमंडल में शामिल लोगों ने आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सांसद संजय सिंह से फोन पर बात भी की। बातचीत के बाद संजय सिंह ने योगी सरकार को दलित विरोधी बताते हुए कहा कि उनके राज में दलितों के अधिकारों को कुचला जा रहा है और दलित बेटियों को न्याय नहीं मिल रहा है।
कार्रवाई से पहले जाति देखती है योगी सरकार: सिंह
सिंह ने कहा कि प्रदेश में अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने से पहले उसकी जाति देखी जाती है, जो किसी भी सरकार और प्रदेश की जनता के लिए बेहद शर्मनाक है। उन्होंने कहा, 'आज़ादी के 74 सालों में पहली बार उत्तर प्रदेश में ऐसा देखने को मिला रहा है कि योगी सरकार ने पिछड़ों, दलितों, अल्पसंख्यकों और ब्राह्मणों का विश्वास अपनी जातिगत राजनीती के कारण खो दिया है।'
संजय सिंह ने मांगा CM योगी का इस्तीफा
संजय सिंह ने बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से सवाल करते हुए कहा कि वो बताएं कि दलित विरोधी मानसिकता वाला ऐसा व्यक्ति प्रदेश सरकार का मुखिया कैसे हो सकता है, जिसके राज में दलित समाज के लोग हिन्दू धर्म छोड़ने को तैयार हो जाएं? उन्होंने पूछा कि क्या ऐसा व्यक्ति प्रदेश की जनता के साथ न्याय कर सकता है? उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी मांग करती है की जिस सरकार में दलितों और पिछड़ों का विश्वास नहीं, बेटियों को न्याय नहीं, ऐसी सरकार को बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है और योगी को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।
बसपा पर भी संजय सिंह का अटैक
बहुजन समाजवादी पार्टी की सुप्रीमो दलित नेता मायावती पर हमला बोलते हुए आप सांसद और प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने कहा कि दलित समाज ने चार बार समर्थन देकर बसपा सुप्रीमो मायावती को अपना मुख्यमंत्री बनाया। बहन जी एक बार भी आज तक हाथरस नहीं गईं। दलित समाज की बच्चियों के साथ जघन्य वारदातें हुईं, कभी बसपा सुप्रीमो ने इनका दुख-दर्द नहीं पूछा। उन्होंने कहा, 'बहन मायावती ने दलित समाज का विश्वास खो दिया है। जब खुद को दलितों का मसीहा कहने वाली बसपा सुप्रीमो किसी दलित के दुख दर्द में खड़ी नहीं हो सकतीं तो आखिर दलित समाज उन पर भरोसा कैसे करेगा।'