कानपुर पुलिस की हद लापरवाही! बिकरू कांड में शहीद हुए सीओ देवेंद्र मिश्रा को दी हत्या की जांच


कानपुर ब्यूरो। कानपुर पुलिस अपने कारनामों को लेकर अक्सर सुर्खियों में बनी रहती है। कानपुर पुलिस का एक और कारनामा इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल है। बिकरू हत्याकांड में शहीद हुए बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्रा को बिल्हौर कोतवाली पुलिस ने एक हत्या के मामले में जांच अधिकारी बनाया है। बिल्हौर कोतवाली में दर्ज हत्या की एफआईआर की कॉपी में शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा का नाम विवेचक के रूप लिखा गया है। यह एफआईआर कॉपी सोशल मीडिया पर वायरल है और पुलिस खुद हंसी का पात्र बनी हुई है। बीते 2 जुलाई की रात बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्रा चौबेपुर, शिवराजपुर और बिठूर थाने की फोर्स के साथ बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने के लिए थे। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने अपने गुर्गो के साथ मिलकर पुलिस टीम पर फायरिंग की थी। जिसमें सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। विकास दुबे ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर सीओ देवेंद्र मिश्रा की बेरहमी से हत्या की थी। सीओ देवेंद्र मिश्रा के सिर पर गोली मारी गई थी, और उनके पैर को कुल्हाड़ी काट से काट दिया गया था।
हत्या के मामले में सीओ देवेंद्र मिश्रा को बनाया जांच अधिकारी
बिल्हौर पुलिस के कागजों में सीओ देवेंद्र मिश्रा आज भी जिंदा हैं। दरअसल बिल्हौर कोतवाली क्षेत्र के दादापुर कटाहा गांव में रहने वाले किसान रामप्रसाद दिवाकर खेतों की रखवाली करने के लिए रात के वक्त खेत पर ही सोते थे। बीते 4 अक्टूबर की सुबह उनका शव उनका शव लहुलुहान हालत में चारपाई पर पाया गया था। रामप्रसाद चाकू से गोदकर उनकी हत्या की गई थी। मृतक किसान के बेटे की तहरीर पर बिल्हौर कोतवाली में हत्या की धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई थी।
एफआईआर कॉपी देखकर परिजन हैरान
हत्या की एफआईआर कॉपी देखकर मृतक किसान के परिजन हैरान रह गए। उन्होने देखा कि एफआईआर कॉपी में जांच अधिकारी शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा को बनाया गया है। जो अधिकारी इस दुनिया में नहीं है, वो भला कैसे इस मामले की जांच कर सकता है। मृतक किसान के परिजनों ने अशंका जताई है कि पुलिस जब एफआईआर कॉपी में अपने ही शहीद अधिकारी का नाम लिख सकती है, तो पुलिस हत्या की जांच क्या करेगी?
तकनीकी कारण से विवेचक में शहीद सीओ का नाम
एसपी ग्रामीण बृजेश श्रीवास्तव के मुताबिक एफआईआर में विवेचक के नाम पर किसी तकनीकी कारणों ने शहीद देवेन्द्र मिश्रा का नाम आ गया है। इससे पूर्व में वर्तमान क्षेत्राधिकारी संतोष सिंह का नाम आ रहा है। इसके लिए हमने यूपी पुलिस डॉट कॉम और सीसीटीएमएस से बात की है। वहां पर उन्होने पहले भी चेंज कर दिया था। अब यह किस तकनीकी कारण से हुआ है, इसको चेक करा लिया जाएगा।