सात साल के बच्चे के साथ महिला टीचर ने किया गलत काम! पॉलीग्राफ टेस्ट से होगा साफ


बुलंदशहर। यूपी के बुलंदशहर की यमुनापुरम कॉलोनी की महिला टीचर ने सात साल के बच्चे के साथ गलत काम किया है या नहीं, यह पॉलीग्राफ टेस्ट से साफ होगा। इस मामले में बच्चे के घरवालों का आरोप है कि टीचर गलत काम करती थी। जबकि टीचर के बयान है कि उसने बच्चे के साथ ऐसा नहीं किया है। इसके बाद अब पुलिस ने पॉलीग्राफ टेस्ट कराने के लिए अनुमति ले ली है। उधर, बच्चे की मां ने एसएसपी ऑफिस पर खूब हंगामा काटा। इंस्पेक्टर को खूब खरी-खरी सुनाई। बाद में सीओ सिटी ने महिला को समझाया। इसके बाद वह शांत हुई। दरअसल, बुधवार को यमुनापुरम कॉलोनी की रहने वाली एक महिला अपने सात साल के बच्चे के साथ एसएसपी ऑफिस पहुंची। उसने हंगामा करते हुए बताया कि उसका सात साल का बेटा मार्च 2019 में यमुनापुरम कॉलोनी की रहने वाली महिला टीचर के पास ट्यूशन पढ़ता था। आरोप है कि एक दिन अचानक बच्चा घर आने के बाद जमीन पर गिर गया। बच्चे का उपचार कराया तो पता चला कि उसने सेक्सवर्द्धक गोलियां खाई। बच्चे ने बताया कि उसकी टीचर उसे गोलियां खिलाती थी और गलत काम करती थी। इस संबंध में शहर कोतवाली में टीचर के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। महिला ने पूछा कि आखिर उसे अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है। इंस्पेक्टर अखिलेश कुमार त्रिपाठी ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन महिला का हंगामा शांत नहीं हुआ। बाद में सीओ सिटी पहुंचे और उनके आश्वासन के बाद महिला शांत हुई। सीओ सिटी संग्राम सिंह ने बताया कि उन्होंने विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ से समय ले लिया है। लैब ने पांच से 11 नवंबर तक टेस्ट कराने के लिए अनुमति दे दी है। इस मामले में बच्चे का, महिला का और टीचर तीनों का यह टेस्ट होगा।