यूपी के गोंडा में बीएसएफ जवान थाने बुलाकर पीटा, दरोगा ने वसूले 25 हजार!


गोंडा। यूपी के गोंडा जिले में बीएसएफ जवान के पुलिस उत्पीड़न का मामला सामने आया है। आरोप है कि बीएसएफ के जवान को थाने पर बुलाकर पुलिस ने पिटाई की। इसके बाद छोड़ने के नाम पर 25 हजार रुपये वसूल लिए गए। इस मामले में थाने के दरोगा पर दबंगों से मिलीभगत का आरोप है। इटियाथोक थाना क्षेत्र का जवान राजस्थान-पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात है। छुट्टी पर बीएसएफ जवान घर आया था। इस दौरान अपनी जमीन पर दबंगों का अवैध कब्जा हटवाना उसे भारी पड़ गया। आरोप है कि स्थानीय पुलिस की मदद से दबंगों ने बीएसएफ जवान और उसके बुजुर्ग पिता के खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज करा दिया। आरोप है कि थाने पर बुलाकर बीएसएफ जवान के साथ दरोगा ने अभद्रता की। जवान की पिटाई भी की गई और हिरासत से छोड़ने के नाम पर दरोगा ने 25 हजार की वसूली भी कर ली। गोसेनूद्रपुर निवासी बीएसएफ जवान रामचंद्र पुत्र बुधराम ने एसपी को दी तहरीर में इटियाथोक थाने पर तैनात दरोगा अयोध्या प्रसाद पर गंभीर आरोप लगाए हैं। जवान ने तहरीर में कहा कि कि वह छुट्टी पर अपने घर आया था। यहां उसे परिजनों से पता चला कि न्यायालय में विचाराधीन उसकी आबादी की भूमि पर विपक्षियों ने जबरन कब्जा कर उस पर छप्पर आदि रख लिया था। उसने वह छप्पर हटाना चाहा तो विपक्षियों ने साजिशन उसका वीडियो बनाकर पुलिस से शिकायत कर दी। इस मामले में थाने के दरोगा अयोध्या प्रसाद मिश्रा ने साजिशन चोरी समेत अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर घूस मांगी। जिसे न दे पाने पर उसे थाने लाकर दरोगा ने अभद्रता करने के साथ-साथ उसकी पिटाई की।
दरोगा ने कहा- रुपये दो नहीं तो नौकरी से निकलवा दूंगा
पीड़ित बीएसएफ जवान रामचंद्र ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि दरोगा अयोध्या मिश्रा ने पहले दबंगों से मिलीभगत करके साजिशन मुकदमा लिखाया। इसे न देने पर जेल भेजने के साथ नौकरी से निकलवाने की धमकी भी दी गई। पीड़ित जवान का कहना है कि उसके एटीएम से जबरन 20 हजार रुपये निकलवाए गए। इसके अलावा पांच हजार रुपये उधार लेकर मजबूरी में दिए। गोंडा के एसपी शैलेश कुमार पाण्डेय ने कहा है कि मामले की जांच कराएंगे और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।