यूपी के गोरखपुर में चौकी इंचार्ज की दबंगई : मारपीट, मोबाइल छीना सीसीटीवी में कैद हुई चौकी इंचार्ज की करतूत, सस्पेंड


गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पुलिस की दबंगई और उत्पीड़न का मामला सामने आया है। पुलिस पर एक शख्स के साथ बर्बर रवैया अपनाने और पैसे की उगाही का आरोप लग रहा है। पीड़ित ने पुलिस की मनमानी का विरोध किया तो वर्दी का रौब दिखाते हुए उसकी बुरी तरह पिटाई कर डाली गई। यह सारी घटना ऑफिस में लगे सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई। इस बीच मामले पर संज्ञान लेते हुए एसएसपी ने चौकी इंचार्ज को सस्पेंड कर दिया है। साथ ही जांच एसपी क्राइम को सौंपी है। बताते चलें कि पीड़ित प्रदीप यादव की बेतियाहाता स्थित हरदयाल सिंह के मकान के ग्राउंड फ्लोर पर जीके फूड्स एंड बेवरेज कंपनी है। पीड़ित ने एसएसपी को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि बेतियाहाता चौकी इंचार्ज एक तरफा झूठी गवाही देने के लिए उकसा रहे थे। जब पीड़ित ने विरोध किया तो चौकी इंचार्ज अमित चतुर्वेदी अपने अन्य दो सिपाहियों के साथ उनकी कंपनी के दफ्तर में आए और डराना-धमकाना शुरू कर दिया। पीड़ित प्रदीप यादव के मकान मालिक हरदयाल सिंह का अपने एक अन्य किराएदार महेंद्र कुमार श्रीवास्तव से किसी मामले को लेकर विवाद चल रहा है। इसको लेकर चौकी इंचार्ज ने 17 अक्टूबर की शाम को पीड़ित के ऑफिस आकर उन्हें एकतरफा गवाही देने के लिए उकसाया। जब प्रदीप ने विरोध किया तो मारपीट कर उनका मोबाइल छीन लिया। पुलिस की करतूत पीड़ित के ऑफिस में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। इस पर चौकी इंचार्ज सीसीटीवी फुटेज मिटाने के लिए एक्सपर्ट बुलाने लगे, लेकिन वह अपने नापाक मंसूबों में सफल नहीं हो पाए। इसके बाद फुटेज को डिलीट करने की भी धमकी देने लगे। चौकी इंचार्ज की इस करतूत से भयभीत होकर पीड़ित ने एसएसपी को पत्र लिखा। इसके बाद एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने एसपी क्राइम को मामले की छानबीन करने का निर्देश दिया है। साथ ही बेतिया हाता चौकी इंचार्ज को सस्पेंड कर दिया गया है।