पूर्व बीडीसी सदस्य की हत्या के मामले में दारोगा को मिला वीआईपी ट्रीटमेंट


कानपुर ब्यूरो। पूर्व बीडीसी सदस्य की हत्या के मामले में पुलिस ने दारोगा समेत तीन आरोपियों को जेल भेजा है। घाटमपुर पुलिस ने मुख्य आरोपी दारोगा से खूब यारी निभाई। पुलिस नामजद दोनों आरोपी को हथकड़ी लगा कर मेडिकल कराने और कोर्ट में पेशी के लिए ले गई, जबकि मुख्य आरोपी दारोगा को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया गया। दारोगा को बिना हथकड़ी के कोर्ट में पेशी कराई गई। घाटमपुर सीट पर उपचुनाव 3 नवंबर को वोटिंग होनी है। ऐसे में मृतक का गांव राजनीत का केंद्र भी बना हुआ है। घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र के भदरस गांव में रहने वाले विमल वाजपेई (45) पूर्व बीडीसी सदस्य थे। बीते शुक्रवार देर रात गांव के बाहर खतों के बीच जुआं चल रहा था। दारोगा प्रेमवीर यादव सिपाही के साथ जुआं लूटने की नियति से पहुंचे थे। पुलिस को देखकर जुआं की फड़ में भगदड़ मच गई थी। इसी बीच विमल वाजपेई उर्फ पप्पू से दारोगा की झड़प हो गई थी। दारोगा प्रेमवीर यादव ने विमल को गोली मार दी थी। मृतक की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गोली नजदीक से गोली मारे जाने की पुष्टी हुई है। बीते शनिवार की सुबह विमल का शव खेत में पाया गया था, परिजनों ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगाया था। घाटमपुर कोतवाली में तैनात दारोगा प्रेमवीर यादव पर पूर्व बीडीसी की गोली मारकर हत्या करने आरोप है। घाटमपुर पुलिस ने दारोगा समेत तीन लोगों को जेल भेजा है। इस दौरान पुलिस ने आरोपी दारोगा पर मेहबानी दिखाते हुए वीआईपी ट्रीटमेंट दिया। पुलिस नामजद आरोपी वीरेंद्र और रफीक को हथकड़ी लगाकर जीप से मेडिकल कराने के लिए ले गई, और उनके मुंह पर मास्क भी नहीं लगाया था। वहीं मुख्य आरोपी प्रेमवीर यादव को बिना हथकड़ी के पुलिस कर्मी बाइक पर बैठाकर पहुंचे थे। चार से पांच दारोगा और दर्जनों सिपाही प्रेमवीर यादव को घेरा बनाकर साथ लेकर चल रहे थे।
पुलिस पर जबरन अंतिम संस्कार कराने का आरोप
विमल वाजपेई के रिश्तेदारों ने पुलिस पर जबरन शव का अंतिम संस्कार कराने का आरोप लगाया है। मृतक के मामा शिवकुमार का आरोप है कि शनिवार को पोस्टमॉर्टम होने के बाद हम लोग शव गांव ले जाना चाहते थे। लेकिन पुलिस का कहना था कि शव एक दिन पुराना हो गया, गांव ले जाना ठीक नहीं है। सूर्य अस्त के बाद भैरवघाट में अंतिम संस्कार करा दिया गया था।
भदरसा गांव बना राजनीत का अखाड़ा
घाटमपुर विधानसभा सीट पर तीन नवंबर को वोटिंग होनी है। पूर्व बीडीसी सदस्य की हत्या के बाद भदरसा गांव में राजनीतिक पार्टियों की चहल कदमी बढ़ गई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मृतक की मां से फोन पर बात की, और उन्हे हर संभव मदद का अश्वासन दिया है। इसके साथ सपा और भाजपा के नेता भी पीड़ित परिवार से मिलने के लिए पहुंच रहे है। विपक्षी पार्टियां कानून व्यवस्था पर सरकार को घेर रही है। भाजपा निष्पक्ष कार्रवाई की बात कर रही है।