ताहिरपुर स्थित कोढी कॉलोनी में दुष्कर्म का विरोध करने पर मौसा ने उतारा था भांजी को मौत के घाट


मेघराज सिंह,सुनील कुमार(नई दिल्ली)। ताहिरपुर स्थित कोढी कॉलोनी में हत्या के बाद घर के बेड में छिपाई गई युवती के शव की गुत्थी को नंद नगरी पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने इस मामले में युवती के मौमा-माैसी को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान वकील पोद्दार और सविता के रूप में हुई है। दुष्कर्म का विरोध करने पर ही मौसा ने भांजी की लोहे की रॉड से हत्या की थी, इसके बाद दंपती ने शव को बेड में ठिकाने लगा दिया था। वारदात के बाद मौसा बिहार भाग गया था। दिल्ली पुलिस ने उसे बिहार के मधेपुरा स्थित बस स्टैंड से गिरफ्तार किया है। वारदात में इस्तेमाल लोहे की रॉड भी बरामद कर ली है। उत्तरी पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त वेद प्रकाश सूर्या ने बताया कि दशहरे वाले दिन 25 अक्टूबर को एक मकान से दुर्गंध आने के सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस ने सविता की मौजूदगी में उसके घर का ताला तोड़ा और बेड से किशोरी का शव बरामद किया। सविता ने बताया कि शव उसकी बहन की बेटी का है, बहन विधवा है और बिहार के पटना में रहती है। उसकी बेटी दिल्ली में उनके साथ रहकर पढ़ाई कर रही थी। इस वर्ष उसने 12वीं कक्षा पास की थी। जिस दिन शव मिला उससे एक दिन पहले से सविता का पति फरार था। सविता ने झूठी कहानी पुलिस को सुना दी, जिसपर पुलिस को यकीन नहीं हुआ। उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की। उसके फरार पति की मोबाइल लोकेशन हैदराबाद और बिहार में मिली। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने दो अलग-अलग टीमें बिहार और हैदराबाद भेजी।
दंपती ने अपने झगड़े को सुलझाने के लिए भांजी को रास्ते से किया साफ
पुलिस काे जांच में पता चला कि 28 सितंबर को जब सविता भीख मांगने चली गई थी तब मौसा ने घर में भांजी से दुष्कर्म का प्रयास किया था। लेकिन वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सका। पीड़िता ने मौसा की करतूत अपनी मौसी को बता दी। दंपती के बीच काफी झगड़ा हुआ। मौसी ने भांजी को बिहार वापस भेजने का प्रयास किया तो पढ़ाई पूरी करने की बात कहते हुए पीड़िता ने मना ‌कर दिया था। दंपती के बीच झगड़े बंद नहीं हुए और सविता ने ही अपने पति से भांजी की हत्या करने के लिए कहा। 23 अक्तूबर को मौसा ने सोते वक्त किशोरी से पहले दुष्कर्म का प्रयास किया, फिर से उसने विरोध किया तो मौसा ने रॉड से उसकी हत्या कर दी। इस बीच मौसी गेट पर खड़ी होकर पहरा देती रही। हत्या के बाद शव को बेड में छिपा दिया और खून साफ कर दिया। सवित ने ही अपने पति को भगा दिया और पुलिस के सामने झूठी की कहानी सुना दी।