देश की पहली चालक रहित मेट्रो फर्राटा भरने के लिए तैयार, 28 को पीएम मोदी दिखाएंगे हरी झंडी


  • देश की पहली चालक रहित मेट्रो ट्रेन दौड़ने के लिए तैयार
  • 28 दिसंबर को पीएम मोदी दिखाएंगे हरी झंडी
  • 37 किलोमीटर लंबी मजेंटा लाइन पर दौड़ेगी पहली मेट्रो
नयी दिल्ली ब्यूरो। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 28 तारीख को राष्ट्रीय राजधानी में देश की पहली चालक रहित मेट्रो ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। काफी पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि इस महीने के आखिरी तक पीएम मोदी ड्राइवरलेस मेट्रो की शुरुआत कर सकते हैं मगर आधिकारिक रूप से आज इसकी घोषणा की गई।
क्रिसमस के बाद पीएम मोदी करेंगे शुभारंभ
पीएम मोदी क्रिसमस के तीसरे दिन यानी 28 दिसंबर को जनकपुरी वेस्ट को नोएडा के बॉटनिकल गार्डन से जोड़ने वाली 37 किलोमीटर लंबी मजेंटा लाइन पर देश की पहली पूरी तरह से स्वचालित ड्राइवर रहित ट्रेन सेवा को रवाना करेंगे। इसके साथ ही वह एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर यात्रा के लिए पूरी तरह से परिचालन नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड भी लॉन्च करेंगे। इससे पहले बताया गया था कि इस संबंध में 25 दिसंबर के आसपास चालक रहित ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के लिए एक प्रस्ताव प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा गया था।" सूत्र ने कहा, "हमारे देश की पहली चालक रहित मेट्रो ट्रेन रवाना होने के लिए तैयार है। हमने अपनी ओर से पूरी तैयारी कर ली है।"सूत्रों के मुताबिक दरअसल, अब तक मेट्रो रेलवे के लिए जो जनरल रूल्स लागू हैं, उनके तहत बिना ड्राइवर वाली ट्रेन ऑपरेशंस की कोई व्यवस्था नहीं है। इसी वजह से आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय को ड्राइवरलेस ट्रेन ऑपरेशंस के लिए मेट्रो रेलवे जनरल रूल्स में परिवर्तन करना जरूरी था। इन रूल्स में ही बदलाव किया गया है और अब नए मेट्रो रेलवे जनरल रूल्स 2020 बनाए गए हें। इन नए रूल्स में ड्राइवरलेस ट्रेन आपरेशंस की व्यवस्था की गई है।
दिल्ली मेट्रो का इतिहास
दिल्ली मेट्रो ने 25 दिसंबर, 2002 को अपने व्यावसायिक संचालन की शुरुआत की थी, जिसके एक दिन पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने डीएमआरसी के शाहदरा से तीस हजारी तक 8.2 किलोमीटर लंबे पहले खंड का उद्घाटन किया था, जिसमें सिर्फ छह स्टेशन थे। डीएमआरसी की अब 242 स्टेशनों के साथ 10 लाइनें हैं और हर दिन दिल्ली मेट्रो में औसतन 26 लाख से अधिक यात्री सफर करते हैं।