ट्रक क्लिनर बन पहुंचे आईपीएस, पुलिसकर्मियों ने नाके पर मांगे पैसे, 4 सस्पेंड


  • ग्वालियर में ट्रकों से पैसे वसूलने वाले 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड
  • जांच के दौरान सभी प्रशिक्षु आईपीएस से भी मांगे थे रुपये
  • प्रशिक्षु आईपीएस की रिपोर्ट पर की गई है यह कार्रवाई
  • ग्वालियर एसपी को लगातार वसूली को लेकर मिल रही थी शिकायत
ग्वालियर। एमपी के ग्वालियर में पुलिसकर्मी ट्रकों से खूब वसूली करते हैं। बिना पैसे के किसी नाके से ट्रक को गुजरने नहीं देते हैं। ग्वालियर एसपी को इसकी लगातार शिकायत मिल रही थी कि शहर में ट्रकों से अवैध वसूली हो रही है। उसके बाद उन्होंने जांच के आदेश दिए थे। एक प्रशिक्षु आईपीएस वेश बदल कर इसकी जांच के लिए निकले। झांसी रोड थाने में पदस्थ पुलिसकर्मियों ने उनसे भी पैसे मांगे। दअरसल, एसपी ग्वालियर अमित सांघी को काफी समय से झांसी रोड के विक्की फैक्टरी इलाके में पुलिस के अवैध वसूली की शिकायतें मिल रही थीं। इस पर उन्होंने पनिहार थाना का चार्ज संभाल रहे प्रशिक्षु आईपीएस मोतीउर रहमान को निरीक्षण के लिए कहा था। रात 2 बजे आईपीएस मोतीउर रहमान ट्रक में कंबल ओढ़कर क्लिनर के वेश में सवार होकर निकले। विक्की फैक्ट्री पॉइंट पर 4 पुलिस जवानों ने ट्रक रोक लिया। एक जवान ने आगे बढ़कर हाथ बढ़ाते हुए रुपए मांगे। इस दौरान पीछे खड़े 3 पुलिस जवान भी हंस रहे थे, तभी ड्राइवर के करीब बैठे आईपीएस बाहर निकले। उन्हें देख जवानों के पैरों तले जमीन खिसक गई। आईपीएस ने तत्काल चारों कांस्टेबल सत्यभान सिंह, रविन्द्र कुशवाहा, थानसिंह यादव, मुकेश शर्मा की रिपोर्ट एसपी को दी।
चारों हुए सस्पेंड
प्रशिक्षु आईपीएस की रिपोर्ट पर चारों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। औचक निरीक्षण की वजह से पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया है। ग्वालियर एएसपी जय कुबेर ने कहा कि मामले की जांच के बाद आगे और कार्रवाई की जाएगी।