दिल्ली पुलिस भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले रैकेट का भंडाफोड़, मेरठ एसटीएएफ ने 5 को किया गिरफ्तार


मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में एसटीएफ यूनिट ने एक नकल माफिया रैकेट का भंडाफोड़ किया। सहारनपुर का रहने वाला अंकुर अपने साथियों के साथ हरिद्वार कनखल में दिल्ली पुलिस भर्ती की नकल कराते हुए पकड़ा गया। उसके पास से कई दर्जन एडमिट कार्ड, लैपटॉप, राउटर आदि बरामद किए गए हैं। अंकुर और उसके चार साथी एक-एक कैंडिडेट से 20-20 हजार रुपये लेकर दिल्ली पुलिस भर्ती की परीक्षा में नकल कराते थे। वे परीक्षा कंडक्ट कराने वाली कंपनी टीसीएस (टाटा कन्सलटेंसी सर्विसेज) में भी हैकिंग का प्रयास करते थे। मेरठ एसटीएफ ने अंकुर के साथ 4 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिन्हें 15 दिसंबर को हरिद्वार कोर्ट में पेश किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक, अंकुर हरिद्वार के कनखल में एक सेंटर चलाता है। इसमें टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के माध्यम से दिल्ली पुलिस एग्जाम के भी पेपर होते हैं। अंकुर एक कैंडिडेट से बीस हज़ार रुपये लेता था और अपने सेंटर में उसे नकल कराता था।मेरठ एसटीएफ को सूचना मिलने पर कनखल सेंटर पर छापा मारा गया। इसके बाद अंकुर के साथ उसके चार हरियाणा के साथी पकड़े गए। उनके पास से कई दर्जन कैंडिडेट्स के एडमिट कार्ड, राउटर आदि बरामद किए गए। एसटीएफ ने इन पांचों को गिरफ्तार कर लिया। उनसे पूछताछ की जा रही है। मंगलवार को इनको हरिद्वार कोर्ट में पेश किया जाएगा। एसटीएफ के सीओ बृजेश सिंह ने बताया कि अंकुर और उसके साथियों ने यह रैकेट चला रखा था और वे कई बार टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज की परीक्षाओं में हैकिंग की कोशिश कर चुके हैं। टीसीएस अपने प्रोग्राम को हर बार बदल देती है जिसकी वजह से अंकुर और उसके साथी हैकिंग में कामयाब नहीं हो रहे थे। फिलहाल इन पांचों को गिरफ्तार कर लिया गया है और पूछताछ जारी है।