गाजियाबाद में मार्च तक हर वार्ड में 60-60 लाख के होंगे विकास कार्य


गाजियाबाद ब्यूरो। लॉकडाउन लागू होने के बाद हुई नगर निगम की पहली बैठक में सोमवार को विकास कार्यों को लेकर जबरदस्त हंगामा हुआ। कई माह से विकास कार्य बाधित होने से विपक्षी दलों के पार्षदों ने विरोध किया। बसपा के एक पार्षद विरोध में आधा सिर मुंडवाकर नगर निगम की बोर्ड बैठक में पहुंचे। इसके बाद महापौर ने मार्च 2021 तक हर वार्ड में 60-60 लाख के विकास कार्य कराने की घोषणा की। इनमें 2019-20 के 40 लाख के बकाया विकास कार्य भी शामिल हैं। यानी इस साल नगर निगम ने भी वार्डों के कोटे में जबरदस्त कटौती की है।
फरवरी 2020 में शून्य हो चुकी नगर निगम की बैठक के एजेंडे पर ही सोमवार को नगर निगम की बोर्ड बैठक हुई। महापौर आशा शर्मा की अध्यक्षता और नगरायुक्त महेंद्र सिंह तंवर की मौजूदगी में करीब 11 माह बाद हुई इस बैठक में एजेंडे पर चर्चा होने की बजाय शुरूआत में ही पार्षदों ने अपने-अपने क्षेत्र की समस्याओं को लेकर विरोध करना शुरू कर दिया। भाजपा पार्षद सरदार सिंह भाटी ने आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों के कहने पर उनके वार्ड के सुपरवाइजर का ट्रांसफर किए जाने, हाईमास्ट लाइटें खराब होने, पार्षद मंजू ने उनके वार्ड में सफाई कर्मचारी न दिए जाने से सफाई न होने और उद्यान विभाग से पाइप न मिलने पर विरोध जताया। अरविंद चौधरी ने एक बैंक्वेट हॉल सिल्वर स्पून द्वारा सरकारी जमीन को कब्जाने और वार्ड में सफाई कर्मचारियों की पर्याप्त संख्या न दिए जाने पर विरोध जताया। कांग्रेस पार्षद माया देवी ने उनके वार्ड-6 में 2018 के विकास कार्य भी अभी तक पूरे न होने पर कड़ा विरोध किया। पार्षद आशा भाटी ने वार्ड में सफाई न होने और शिकायत पर सफाई सुपरवाइजर द्वारा शराब पीकर विरोध किए जाने को लेकर विरोध किया। आनंद चौधरी ने तालाबों के सौंदर्यीकरण न होने का मामला उठाया। विरोध के बीच करहेड़ा से भाजपा पार्षद बिजेंद्र चौहान, कांग्रेस पार्षद मनोज चौधरी ने वर्तमान वित्तीय वर्ष का वार्ड कोटा निर्धारित किए जाने की मांग की। पार्षदों ने हर वार्ड के लिए दो करोड़ का कोटा निर्धारित करने करने की मांग की थी। हालांकि मेयर ने महज 20-20 लाख का कोटा देने की घोषणा की। इसके अलावा 15 फरवरी तक 40-40 लाख के बकाया विकास कार्य भी कराए जाएंगे। कुल मिलाकर इस वित्तीय वर्ष में अब हर वार्ड में 60-60 लाख के काम होंगे।
हर वार्ड में 15 फरवरी तक 60-60 लाख के काम पूरे कराने के निर्देश निर्माण विभाग के अधिकारियों को दिए गए हैं। इसके लिए एक सप्ताह में टेंडर प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। नए वित्तीय वर्ष में हर वार्ड का कोटा नए सिरे से निर्धारित होगा।- आशा शर्मा, महापौर 
विरोध में आधा सिर मुंडवाकर बैठक में पहुंचे बसपा पार्षद
वार्ड-44 अर्थला से बसपा पार्षद दिलशाद मलिक क्षेत्र में विकास कार्य न होने के विरोध में आधा सिर मुंडवाकर सदन में पहुंचे। उन्होंने ठप पड़े विकास कार्यों को लेकर विरोध किया और अधिकारियों पर मनमानी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वार्ड में सभी मुख्य रास्तों, कब्रिस्तान का बुरा हाल है। 50 फीसदी से अधिक कच्चे नाले हैं। मुख्य द्वार पर राधाकृष्ण मंदिर की दुर्दशा हो रही है। प्रस्ताव पास होने के बावजूद बच्चों के खेलने के लिए मैदान नहीं बनाया गया। बार-बार शिकायत करने पर भी सफाई कर्मचारी नहीं दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इतना आहत वह आधा सिर मुंडवाकर नहीं हुए, जितना विकास कार्य न होने से हैं। महापौर आशा शर्मा ने उनके वार्ड के बकाया कार्य जल्द पूरा कराने का आश्वासन दिया।