बीजेपी विधायक महेंद्र पाल के भाई को मारा थप्‍पड़, दारोगा सस्‍पेंड, एसआई-सिपाही लाइन हाजिर


गोरखपुर। गोरखपुर में पिपराइच से बीजेपी विधायक महेंद्र पाल सिंह के भाई और पुलिस के बीच मारपीट का मामला सामने आया है। विधायक के भाई रमाशंकर सिंह का कहना है कि उनकी गाड़ी की एक स्कूटी सवार से टक्कर हो गई। इसके बाद स्कूटी सवार शख्स ने अपने परिचित दारोगा को बुलाकर उनको पिटवाया और भद्दी गालियां दीं। रमाशंकर सिंह ने एसएसपी को पत्र लिखकर थानेदार, दारोगा, एसआई समेत पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की। इस पर कार्रवाई करते हुए दारोगा रविप्रकाश को तत्‍काल प्रभाव से निलंबित जबकि एसआई छोटेलाल और सिपाही अनिल यादव को लाइन हाजिर कर दिया गया। बताया जा रहा है क‍ि सोमवार दोपहर विधायक के भाई रमाशंकर सिंह के कार की एक स्कूटी से टक्कर हो गई। इसके बाद वह नीचे उतरकर स्कूटी सवार से बातचीत करने लगे। इस दौरान मामला बढ़ गया और स्कूटी सवार शख्स ने शाहपुर थाने पर अपने परिचित दारोगा को सूचना दे दी। आरोप है कि घटनास्थल पर पहुंचे दारोगा का रमाशंकर सिंह से विवाद हो गया। पुलिस उनको थाने पर ले गई। विधायक के भाई का आरोप है कि थानेदार के कहने पर दारोगा व एसआई ने मुझे व मेरे सहयोगी राहुल को मारापीटा व भद्दी गालियां दीं। बीजेपी विधायक महेंद्र पाल सिंह व उनके समर्थकों के थाने पहुंचने के बाद रमाशंकर सिंह और उनके मित्र को छोड़ा गया। इसके बाद रमाशंकर सिंह हिंदू युवा वाहिनी के जिलाध्यक्ष आनंद शाही व बीजेपी नेताओं के साथ एसएसपी कार्यालय पहुंचकर शाहपुर के थानेदार सुधीर सिंह, एसआई रवि प्रकाश यादव, छोटेलाल व दो सिपाहियों पर कार्रवाई की मांग की। उधर, एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने सीओ गोरखनाथ से पूरे मामले की जांच कराई। इसमें दारोगा रविप्रकाश को दुर्व्‍यवहार का दोषी पाया गया।