उत्तरपूर्वी दिल्ली के खजूरी खास में मकान की छत गिरी, तीन वर्षीय बच्ची की मलबे में दबकर मौत


दिल्ली ब्यूरो। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के खजूरी खास इलाके में मकान की छत गिरने से मलबे में दबकर मासूम बच्ची की मौत हो गई। बच्ची की शिनाख्त मानवी (3) के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार मकान की छत कमजोर होने की वजह से हादसा हुआ, लापरवाही का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। पुलिस के मुताबिक मानवी, परिवार के साथ गली नंबर-4, खजूरी खास में रहती थी। परिवार में पिता विकास, मां ज्योति, दादा चंदर पाल व अन्य सदस्य हैं। मानवी, विकास की इकलौती बेटी थी। दादा चंदर पाल, कैट्स एंबुलेंस में नौकरी करते हैं। पुलिस के अनुसार विकास के दो मंजिला मकान की छत पटिया-एंगल-गाटर से बनी थी। पिछले कुछ दिनों से तीसरी मंजिल बनाने का काम चल रहा था। उसके लिए निर्माण सामग्री को छत पर चढ़ाया जा रहा था। सोमवार सुबह करीब 10 बजे अचानक दूसरे मंजिल की छत गिर गई। मलबे का वजन पहली मंजिल की छत भी नहीं झेल सकी। घर में नीचे मौजूद तीन साल की मानवी मलबे के नीचे दब गई। हादसे के समय परिवार के अन्य सदस्य घर से बाहर थे। छत गिरते ही आस-पड़ोस के लोग भी मदद के लिए भागे।सूचना पर पहुंची पुलिस और दमकल विभाग की टीमों ने राहत और बचाव कार्य शुरू हुआ। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद मानवी को मलबे से निकालकर जग प्रवेशचंद अस्पताल पहुंचाया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। शुरुआती जांच के बाद पुलिस अधिकारियों का कहना है कि मकान की छत बहुत कमजोर थी, इसी वजह से हादसा हुआ। फिलहाल लापरवाही का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जांच के बाद दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।