झूठी निकली दिल्ली के शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन पर गैंगरेप की कहानी


नई दिल्ली ब्यूरो। दो हफ्ते पहले शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन पर गैंगरेप होने का आरोप लगाकर जिस युवती ने दिल्ली पुलिस की नींद उड़ा दी थी, उस मामले की जांच में कहानी कुछ और ही निकली। रेलवे पुलिस का दावा है कि ऐसी कोई वारदात हुई ही नहीं। युवती ने पड़ोस में ही रहने वाले अपने एक करीबी दोस्त के साथ मिलकर यह कहानी रची थी, ताकि वह उसके साथ शादी करके अपना घर बसा सके। पुलिस ने अब इस मामले में युवती के दोस्त मनीष (25) को गिरफ्तार किया है और आगे की छानबीन कर रही है। जांच के दौरान यह भी साफ हुआ कि रेलवे स्टेशन पर स्थित जिस खोखे से उसी रात बर्तन और अन्य सामान चोरी हुआ था और बाद में युवती ने उसी रात तीन लोगों के द्वारा गैंग रेप किए जाने की बात पुलिस को बताई, उसे देखते हुए पुलिस को पहले यही शक हो रहा था कि शायद जिन लोगों ने दुकान में चोरी की होगी, उन्होंने ही गैंगरेप की इस वारदात को भी अंजाम दिया होगा, मगर अब जांच में पता चला कि चोरी किसी और ने की थी और उस घटना का इस घटना से कोई लेना-देना नहीं था। हालांकि जिस खोखे में चोरी हुई, उसके संचालक का बयान जरूर गैंगरेप की इस झूठी कहानी का सच जानने में पुलिस के लिए काफी मददगार साबित हुआ। खोखे के संचालक ने ही पुलिस को बताया कि उसने अक्सर युवती और उसके दोस्त को रेलवे स्टेशन पर नजदीकियां बढ़ाते देखा है। उसी के बाद पुलिस को मनीष पर शक हुआ और सख्ती से पूछताछ करने पर सारी कहानी का खुलासा हो गया। डीसीपी (रेलवे) हरेंद्र कुमार सिंह के मुताबिक, मामले की जांच में पता चला कि शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन के पास स्थित झुग्गी बस्ती में रहने वाली 20-21 साल की एक युवती के परिजनों ने पिछले साल जबरन युवती की शादी हरियाणा में उससे दोगुनी उम्र के एक शख्स से करवा दी थी, लेकिन शादी के दो-तीन दिन बाद ही युवती मायके लौट आई थी और उसके बाद कभी ससुराल नहीं लौटी। हालांकि, परिजनों ने कई बार उसे ससुराल भेजना चाहा, लेकिन युवती ने जाने से साफ मना कर दिया और तलाक दिलाने की बात करने लगी। जांच में पता चला कि पड़ोस में ही रहने वाले मनीष नाम के एक लड़के के साथ युवती की काफी नजदीकी थी और वह मनीष के साथ शादी करके घर बसाना चाहती थी। जिस रात गैंग रेप की वारदात की पुलिस कॉल हुई, उस रात युवती अपने परिजनों से जब झगड़ा करके घर से निकलकर रेलवे स्टेशन के प्लैटफॉर्म पर पहुंची, तो पीछे-पीछे मनीष भी वहां पहुंच गया। वहीं पर दोनों ने यह प्लान बनाया कि अगर लड़की अपने साथ गैंगरेप होने का आरोप लगा दे, तो उसका पति भी उसे छोड़ देगा और फिर घरवाले भी मनीष के साथ उसकी शादी के लिए राजी हो जाएंगे। अपनी कहानी को सच साबित करने के लिए दोनों ने प्लैटफॉर्म के पास ही एक जगह संबंध भी बनाए और युवती ने फिर अपने कपड़े वहीं फेंक दिए, ताकि पुलिस को उसकी बात पर यकीन हो जाए। उसके बाद मनीष चला गया और फिर पुलिस के पास गैंगरेप की झूठी कॉल पहुंची।