योगी सरकार के राज्यमंत्री पर करोड़ों के गबन का आरोप


  •  सीएम से शिकायत के बाद पीड़ित ने दी अनशन की धमकी
आगरा ब्यूरो। अक्सर विवादों में रहने वाले लघु और सूक्ष्म उद्योग मंत्री चौधरी उदयभान सिंह, उनके बेटे तथा बहू पर उनके मुंहबोले भांजे ने ढाई करोड़ रुपये के गबन का आरोप लगाया है। पूर्व में भी उक्त व्यक्ति द्वारा ऐसे आरोप लगाए गए थे लेकिन बाद में दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया था। अब शिकायतकर्ता ने कई अन्य बकायेदारों को साथ लेकर प्रेसवार्ता कर पैसे वापस न मिलने पर मुख्यमंत्री आवास पर अनशन करने की धमकी दी है। जानकारी के मुताबिक, आगरा के रहने वाले अशोक अग्रवाल ने एमएसएमई राज्यमंत्री चौधरी उदयभान सिंह और उनके बेटे राजवीर सिंह पर 2 करोड़ 35 लाख रुपए हड़पने का आरोप लगाया है। पीड़ित ने एक प्रेसवार्ता कर राज्यमंत्री पर और भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित अशोक ने बताया कि उदयभान सिंह करीब 40 साल से उनकी मां से राखी बंधवा रहे रहे हैं। साल 2009 में 40 लाख का लोन न चुकाने पर पुलिस कुर्की करने घर पहुंची थी, तब उदयभान सिंह ने मेरे से पहले पांच लाख और कुछ दिन बाद फिर 5 लाख 60 हजार बैंक में डलवाए थे। तब उनकी कुर्की रुकी थी। उन्होंने आगे बताया कि इसके बाद उनके बेटे राजीव पाल सिंह के साथ कमला नगर और खंदारी में फ्लैट्स बनाकर बेचे और पार्टनरशिप में जमीन खरीदी लेकिन उसमें भी उन्होंने घपला कर फर्जी तरीके से जमीन बेच पैसा हड़प लिया। इसकी एफआईआर भी दर्ज कराई गई थी लेकिन तीन साल पहले कुछ लोगो ने मध्यस्थता कराते हुए समझौता कराया था। तब उदयभान सिंह ने स्टाम्प पर तीन महीने में पैसा देने का वादा किया था लेकिन तीन साल बाद भी पैसा नहीं दिया।
'दर्जन भर लोगों का मंत्री पर कर्ज'
पीड़ित का आरोप है कि सब्जी वाले से लेकर आटे वाले और पेंटर सहित करीब एक दर्जन अन्य लोगो का भी मंत्री पर कर्ज है। वे लोग भी प्रेसवार्ता में शामिल होने आ रहे थे लेकिन राज्यमंत्री और उनके बेटे ने सबको धमका दिया। इस कारण अन्य लोग नहीं आ सके। पीड़ित ने एक पेंटर की ऑडियो भी सबको दी जिसमे पेंटर धमकी देने की बात बोल रहा है। पीड़ित का कहना है कि उसने डीजीपी से लेकर एसएसपी और तमाम बड़े अधिकारियों के साथ सीएम पोर्टल पर भी शिकायत की लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने बताया कि जब उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के लिए होटल बुक किया तो कमला नगर में किसी ने दहशत के कारण बुकिंग नहीं की। अगर हमें इंसाफ नहीं मिला तो परिवार के साथ पहले आगरा के शहीद स्मारक पर अनशन करेंगे। अगर फिर भी इंसाफ नहीं मिला तो लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के सामने परिवार सहित अनशन करेंगे। जब तक इंसाफ नहीं मिलेगा, संघर्ष जारी रहेगा। वहीं पूरे प्रकरण पर चौधरी उदयभान के पुत्र राजवीर ने किसी का भी बकाया न होने की बात कही है। उनका कहना है कि उनके पास पुख्ता कागजात हैं और आगे वो भी कार्रवाई करेंगे।