एटीएम में चिमटी के सहारे लगाते थे सेंध, निकाले करोड़ों रुपये


प्रयागराज। पुलिस ने एक ऐसे गैंग को अरेस्ट किया है जो बहुत शातिराना अंदाज से एटीएम से चिमटी के सहारे पैसे उड़ा दिया करता था। खास बात पैसा निकालने का मैसेज भी किसी को नहीं मिलता था। एटीएम से छेड़छाड़ कर करोड़ों रुपये निकालने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड करते हुए तीन शातिरों को अरेस्ट किया है। पुलिस के हत्थे चढ़े इन शातिरों के पास से 23500 रुपये नकद, तीन मोबाइल और एक चिमटी बरामद की गई है। गिरोह का एक सदस्य अब भी फरार है। तीनों ने देश के कई राज्यों से चिमटी के सहारे एटीएम से पैसे निकालने की वारदात को अंजाम देने की बात कबूली है। एटीएम से पैसा निकालने वाले ये लोग इसी पैसे से ऐशोआराम की जिंदगी जिया करते थे।
चिमटी में फंसाकर हाथ से खींचते थे नोट
प्रयागराज पुलिस और गंगा पार एसओजी ने मिलकर इन शातिरों को प्रयागराज के गद्दोपुर इलाके से अरेस्ट किया है। पकड़े गए गैंग ने पुलिस को बताया कि वो पुराने एटीएम से ही छेड़छाड़ करते थे और पहले 500 रुपये निकालने के लिए इंट्री करते थे और जब नोट बाहर निकलने वाला होता था तभी ये रुपये निकलने वाली जगह जिसे डिसपेंसर शटर कहते हैं पर कुछ फंसा देते थे। 500 रुपये निकालने के बाद वे दोबारा और कार्ड लगाते थे और मनमाफिक की इंट्री करते थे। मशीन से जब रुपये गिनकर ऊपर आते थे वह चिमटे में फंसाकर हाथ से बाहर खिंच लेते थे। इससे उन्हें रुपये भी मिल जाते थे और खाते में कोई कटौती भी नहीं होती थी। उन्होंने पुलिस को बताया कि एटीएम से छेड़छाड़ कर पैसा निकालने का सिलसिला पिछले 5 साल से चल रहा था। इस दौरान उन्होंने करीब 5 करोड़ रुपये तक निकाले हैं। गैंग का एक सदस्य अब भी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा है। पुलिस उसकी तलाश में जुटी है।
लग्जरी लाइफ जीने के लिए करते थे ये काम
एटीएम के लुटेरों ने पुलिस को बताया कि एटीएम से छेड़छाड़ कर पैसे निकालने का सिलसिल उत्तर प्रदेश के अलावा मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी कर चुके हैं। एक बार गैंग अरेस्ट भी हो चुका है। हाल में ही सभी जमानत पर बाहर आए हैं और फिर से पुराने धंधे में जुट गए।