प्रॉपर्टी डीलर की गोली मारकर हत्या, रात भर सड़क पर पड़ा रहा शव


  • खेड़कीदौला थाना एरिया में बतौर प्रॉपर्टी डीलर काम करते थे। रात करीब 9 बजे घर की ओर कार से जा रहे थे।
  • वारदात के कुछ समय पहले प्रॉपर्टी डीलर से किसी ने रास्ता पूछने के बहाने कार पर नॉक किया था।
  • पुलिस को शक है कि कार में 2 से 3 लोग सवार थे, जिन्होंने रंजिश के चलते शराब पीने के बाद हत्या कर दी।
गुड़गांव। कार सवार प्रॉपर्टी डीलर की गोली मारकर हत्या कर दी गई। रात भर उनका शव पटौदी रोड पर गाडौली गांव के पास सड़क किनारे पड़ा रहा। शव से कुछ कदम की दूरी पर कार भी खड़ी थी। गुरुवार सुबह राहगीर ने पुलिस को सूचना दी। प्रॉपर्टी डीलर मानेसर गांव के रहने वाले थे। शुरुआती जांच के आधार पर पुलिस को शक है कि रास्ता पूछने के बहाने किसी ने कार रुकवाई और लूटपाट के इरादे से हत्या कर दी।  लेकिन सवाल ये है कि पर्स और मोबाइल ले जाने वाले बदमाश कार को यहीं क्यों छोड़ गए।
रात को ऑफिस पर दोस्तों के साथ शराब पीकर निकले थे घर
पुलिस के अनुसार, रविंद्र यादव (46) मानेसर गांव में रहते थे। कई साल तक उन्होंने गुड़गांव के सेक्टर-12 में कार सेल-परचेज का कारोबार किया। अब वह खेड़कीदौला थाना एरिया में बतौर प्रॉपर्टी डीलर काम करते थे। ऑफिस में रोज की तरह बुधवार शाम को भी 5-6 दोस्तों के साथ बैठकर शराब पी। इसके बाद करीब 9 बजे सभी वहां से निकले।
किसी परिचित महिला से विडियो कॉल पर बात करते हुए जा रहे थे
अपनी कार चलाते समय प्रॉपर्टी डीलर किसी परिचित महिला से विडियो कॉल पर बात कर रहे थे। इसी दौरान अचानक कॉल कट गई। महिला ने तुरंत मानेसर गांव के सरपंच विजयपाल को कॉल कर इस बारे में बताया। सरपंच ने ऑफिस के रूट पर जाकर देखा और आस-पास काफी तलाश किया। उन्हें लगा कि कहीं एक्सिडेंट हो गया हो या पुलिस ने शराब पीने के चलते पकड़ा हो। इसलिए वह खेड़कीदौला व मानेसर थाने में भी गए लेकिन कार खड़ी नहीं दिखी। देर रात मृतक के भाई को भी कॉल कर सरपंच ने पूछा लेकिन वह करीब साढ़े 11 बजे तक भी घर नहीं पहुंचे। इसके बाद गुरुवार सुबह राहगीरों ने पटौदी रोड पर सड़क किनारे शव देख पुलिस को सूचना दी। सेक्टर-10 थाना पुलिस पहुंची और परिवार को सूचना दी। मृतक के भाई सुदेश यादव, गांव के सरपंच व अन्य लोग पहुंचे तो शव को पोस्टमॉर्टम के लिए पहुंचाया गया। परिवार की ओर से किसी पर शक नहीं जताया गया है।
लूटपाट के चलते हत्या का शक
पुलिस सूत्रों की मानें तो वारदात से ठीक पहले प्रॉपर्टी डीलर के साथ विडियो कॉल पर बात कर रही परिचित महिला ने कई अहम जानकारी दी है। महिला का कहना है कि विडियो कॉल के दौरान उसने देखा कि किसी ने रास्ता पूछने के बहाने कार पर नॉक किया, लेकिन फिर अचानक कुछ हाथापाई हुई और रविंद्र के हाथ से मोबाइल गिर गया। इसके बाद कुछ आवाजें आईं लेकिन कुछ दिखाई नहीं दिया। कुछ मिनट बाद ही मोबाइल स्विच्ड ऑफ भी हो गया। वहीं मृतक का पर्स व मोबाइल गायब मिले हैं।
कार में मिलीं शराब की बोतलें और गिलास
सड़क किनारे शव के पास खड़ी मिली कार में शराब की बोतल मिली है, लेकिन जिस ब्रैंड की यह शराब है, दोस्तों का कहना है कि ये ब्रैंड कभी वो पीते ही नहीं थे। कार की पिछली सीट पर भी एक खाली गिलास मिला है। ऐसे में पुलिस को शक है कि कार में 2 से 3 लोग सवार थे। अब वो या तो बदमाश हो सकते हैं, जिन्होंने पीड़ित को गनपॉइंट पर बंधक बनाकर घुमाया हो और इस दौरान शराब भी पी हो। या फिर कोई परिचित हो सकते हैं जिन्होंने रंजिश के चलते शराब पीने के बाद हत्या कर दी।