दिल्‍ली के शकरपुर से मुठभेड़ के बाद पांच संदिग्‍ध आतंकवादी गिरफ्तार, कश्‍मीर में आतंकवाद के साथ खालिस्‍तान आंदोलन को भी हवा दे रही आईएसआई


  • दिल्‍ली के शकरपुर से मुठभेड़ के बाद पांच संदिग्‍ध आतंकवादी गिरफ्तार
  • पुलिस को इनके पास से मिली तीन पिस्‍टल, 1 लाख कैश, 2 किलो हेरोईन
  • स्‍पेशल सेल के डीसीपी का दावा, दो पंजाब और तीन कश्‍मीर के रहने वाले
  • खालिस्‍तान आंदोलन को कश्‍मीर में आतंकवाद के साथ जोड़ने की ताक में आईएसआई
राजीव गौड,(दिल्‍ली ब्यूरो)। दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने शकरपुर से पांच संदिग्‍ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से दो पंजाब के हैं, जबकि तीन कश्‍मीर के रहने वाले हैं। पुलिस को उनके पास से तीन पिस्‍टल, दो किलो हेरोईन और एक लाख कैश मिला है। स्‍पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा के मुताबिक, इनकी गिरफ्तारी दिखाती है कि आईएसआई (पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी) किस तरह खालिस्‍तान आंदोलन को कश्‍मीर में आतंकवाद से जोड़ने की कोशिश कर रही है। पकड़े गए आतंकियों में से एक पंजाब के शौर्य चक्र अवार्डी बलविंदर सिंह की हत्‍या में शामिल बताया जा रहा है।
दिल्‍ली पुलिस ने किया साजिश का भांडाफोड़
कुशवाहा ने सोमवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि गैंगस्‍टर्स का इस्‍तेमाल टारगेटेड हत्‍याओं के लिए हो रहा है। उन्‍होंने कहा कि इससे दो फायदे होते हैं- सांप्रदायिक तनाव पैदा होता है और आतंकवाद के खिलाफ खड़े होने वालों का मनोबल टूटता है। पुलिस ने कहा कि अक्‍टूबर में बलविंदर सिंह की हत्‍या में गुरजीत सिंह भूरा और सुखदीप शामिल थे। इनका खाड़ी में रहने वाले किसी सुखमीत और अन्‍य गैंगस्‍टर्स से संपर्क था। इन गैंगस्‍टर्स के आईएसआई ऑपरेटिव्‍स से जुड़ाव की भी बात सामने आई है। दिल्‍ली पुलिस का दावा है कि इन्‍होंने कबूल लिया है कि जो हथियार बरामद हुए हैं, उन्‍हीं से हत्‍या की गई थी।
पाक से दी गई शौर्य चक्र विजेता की सुपारी!
दिल्‍ली पुलिस के मुताबिक, जिन तीन कश्‍मीरियों को पकड़ा गया है, वे हिजबुल मुजाहिदीन के ओवरग्राउंड वर्कर्स कहे जा सकते हैं। इन लोगों के लिए पाकिस्‍तान में सेटअप था और पीओके में उनके साथी मौजूद हैं। पुलिस का दावा है कि आईएसआई कश्‍मीर और खालिस्‍तान आंदोलन को मिलाने की कोशिश में है। कुशवाहा ने कहा कि इस मामले के दो पहलू हैं। एक कश्‍मीर का है और दूसरा पंजाब के गैंगस्‍टर्स का। पंजाब के गैंगस्‍टर टारगेटेड हत्‍याएं करते हैं और कश्‍मीर का धड़ा ड्रग्‍स और टेरर फंडिंग में लिप्‍त है।
किसान आंदोलन से नहीं है कोई कनेक्‍शन
इन संदिग्‍यों की गिरफ्तारी ऐसे वक्‍त में हुई है जब‍ दिल्‍ली में किसानों का आंदोलन चरम पर है। इस आंदोलन के बीच से भी खालिस्‍तान से जुड़े कुछ संदर्भ सामने आए थे। हालांकि पुलिस ने साफ किया कि इन गिरफ्तारियों का फिलहाल जारी किसान आंदोलन से कोई लेना-देना नहीं है।