एक विवाह ऐसा भी: फेरों से कुछ घंटों पहले हुई अपंग, दूल्हे ने स्ट्रेचर पर लेटी दुल्हन से की शादी


  • 8 दिसंबर को होनी थी अवधेश और आरती की शाादी
  • दोपहर को छत से फिसलकर नीचे गिरी आरती, कमर से रीढ़ की हड्डी टूटी
  • अस्पताल में कराई गई भर्ती, घरवालों ने सोचा अब नहीं हो सकेगी शादी
  • युवती के घरवालों ने दूल्हे से रखा प्रस्ताव, आरती की छोटी बहन से कर लें शादी
  • अवधेश ने कहा वह हर हाल में आरती को अपनाने के लिए तैयार है, स्ट्रेचर में लेटी आरती की भरी मांग
प्रतापगढ़। बीते दिनों कई ऐसी घटनाएं सामने आईं जहां जरा सी बात पर वर पक्ष नाराज हो गया, दूल्हा भाग गया तो कहीं दहेज के कारण शादी नहीं हो सकी। उत्तर प्रदेश के प्रतापढ़ में एक दूल्हे में इंसानियत की मिसाल पेश की। फेरों के कुछ घंटों पहले हादसे का शिकार हुई दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूट गई। दूल्हे ने अपंग हुई दुल्हन से न सिर्फ शादी की, बल्कि अस्पताल में रहकर अब 24 घंटे अपनी पत्नी सेवा कर रहे हैं। प्रतापगढ़ की रहने वाली आरती मौर्य की शादी पास के ही गांव के अवधेश से तय हुई थी। 8 दिसंबर को दोनों की शादी होनी थी। दोनों घरों में खुशियां मनाई जा रही थीं। आरती के हाथों में मेंहदी रची थी। अवधेश बारात निकालने की तैयारी कर रहे थे। अचानक खुशियों के बीच मातम छा गया। रात में फेरों से पहले ही दोपहर को आरती का पैर छत से फिसल गया और वह सीधा नीचे आ गिरी। आनन-फानन में आरती को अस्पताल ले जाया गया। उसकी की रीढ़ की हड्डी पूरी तरह टूट गई। शरीर में कई जगह चोटें आईं। आरती के साथ हुई घटना की जानकारी अवधेश के घरवालों तक पहुंची। सब घबरा गए। डॉक्टरों ने बताया कि फिलहाल आरती नहीं चल पाएगी। आरती के घरवालों पर मानों दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। उन्हें लगा कि अब आरती की शादी कभी नहीं हो सकेगी। घर में शादी की सारी तैयारियों के बीच आरती के घरवालों ने अवधेश के घरवालों के सामने एक दूसरा प्रस्ताव रखा। यह प्रस्ताव था आरती की छोटी बहन से शादी का।
स्ट्रेचर पर लेटी आरती के साथ लिए फेरे
अवधेश ने आरती से ही शादी करने की बात कही। उसने कहा कि हर हाल में आरती को अपनाएगा। डॉक्टर्स से परमिशन लेकर आरती को ऐंबुलेंस से घर लाया गया। स्ट्रेचर पर ही लेटी आरती के साथ अवधेश ने शादी की रस्में निभाईं। उसकी मांग भरी और फेरे लिए। उसे वापस लेकर अस्पताल पहुंचा।
24 घंटे आरती के साथ अस्पताल में रहता है
अस्पताल में अवधेश ने सारी कागजी कार्रवाई पूरी की। फॉर्म से लेकर अन्य कागजों में खुद को आरती का पति लिखा और अब 24 घंटे आरती के साथ रहकर उसकी सेवा कर रहा है। आरती का ऑपरेशन हो चुका है। अब वह दिनरात उसके ठीक होने की ईश्वर से प्रार्थना भी कर रहा है।