मंदिर में चोरी के बाद लगी नींद, कमरे में बिस्तर देख सोया चोर


शाजापुर। एमपी में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। कड़कड़ाती ठंड में लोग घरों से बाहर निकलने की हिमाकत नहीं कर रहे हैं। इस बीच एमपी के शाजापुर में चोरी माता मंदिर में चोरी करने पहुंचा था। तिजोरी का ताला तोड़ उसने सारा सामान इकट्ठा कर लिया था। उसके बाद चोर को नींद आने लगी। गर्भ गृह के बगल के कमरे में बेड लगा था और उस पर रजाई भी था। फिर चोर उसी पर जाकर लेट गया। दरअसल, शहर के लालबाई-फूलबाई मंदिर में एक युवक चोरी करने पहुंचा था। इसने मंदिर के बाहर लगे त्रिशूल से परिसर में बने कमरे का दरवाजा का ताला तोड़ा और वहां रखा सामान समेटने लगा था। इस दौरान चोर को पलंग और बिस्तर दिख गया था। उसके बाद चोरी का सामान वहीं किनारे पर रख लेट गया। नींद सबको प्यारी होती है। लेकिन काम के दौरान लग तो मामला बिगड़ जाता है। फिर भले ही वह चोरी का ही काम क्यों न हो। कुछ ऐसा ही इस चोर के साथ भी हुआ है। रजाई की गर्मी मिलते ही वह गहरी नींद में सो गया। उसके बाद सुबह जब लोग मंदिर पहुंचे तो उन्हें सारा सामान बिखरा हुआ मिला। फिर लोगों ने इसकी जानकारी तुरंत पुलिस को दी क्योंकि इस मंदिर में पहले भी चोरी की कोशिश हुई थी। चोर को नींद इतनी गहरी लगी थी कि वह सुबह तक उठा ही नहीं। सुबह जब मंदिर के सेवादार यहां पहुंचे तो दरवाजा बाहर की बजाए अंदर से बंद था। उन्होंने तुरंत पुलिस को बुलाया और जब पुलिस दरवाजा तोड़ कर अंदर दाखिल हुई तो चोर की नींद में खलल पड़ गई। पुलिसकर्मी उसके शरीर से रजाई हटा कर डंडे से उठने लगे। इस दौरन वह चिढ़ गया। साथ ही पुलिसकर्मियों से कहने लगा कि अभी सोने दो यार। बाद में पुलिस ने उसे उठा कर हिरासत में लिया है। लेकिन थाने में पड़ताल के बाद पुलिस ने इसे विक्षिप्त मान कर छोड़ दिया है। पुजारी की मां का कहना है कि यह चोरी करने आया था। उन्होंने कहा कि माता जी कृपा से उसे नींद लग गई थी। कोई भी यहां आज तक चोरी में सफल नहीं हुआ है। अगर कोई कर भी लेता है तो बाद में सामान लौटा जाता है। पुजारी की मां का तर्क है कि इसे भी माता जी ने ही चोरी के बाद नुकसान पहुंचाया है।