असली धर्म बताए बिना लड़की से बनाए संबंध, 'लव जिहाद' कानून के तहत नोएडा में दूसरी गिरफ्तारी


गौतमबुद्धनगर। उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में नए धर्मांतरण रोधी कानून के तहत एक युवक को गिरफ्तार किया गया है। गौतमबुद्धनगर जिले में इस कानून के तहत दर्ज किया गया यह दूसरा मामला है। आरोपी युवक दूसरे धर्म की लड़की के साथ लंबे समय से संबंध बनाता आ रहा था। ग्रेटर नोएडा के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त विशाल पांडेय ने बताया कि वह युवक तकरीबन 20 साल का है। उसने लड़की को अपने असली नाम और धर्म के बारे में नहीं बताया था। पांडेय ने बताया, ‘दादरी थाने में एक एफआईआर दर्ज की गई है, जिसके बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।’ अधिकारी ने लड़की की निजता का हवाला देते हुए और ब्योरा देने से इनकार कर दिया। उत्तर प्रदेश गैर कानूनी धर्मांतरण प्रतिषेध अध्यादेश के तहत ऐसी शादियों को अमान्य ठहराया गया है, जिसका एकमात्र उद्देश्य धर्मांतरण हो और इसका उल्लंघन करने पर 10 साल तक के कारावास की सजा का प्रावधान है। नए कानून के तहत गौतमबुद्धनगर में पहला मामला ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर थाने में 19 दिसंबर को दर्ज किया गया था। एक दक्षिण कोरियाई नागरिक समेत तीन महिलाओं और एक पुरुष को स्थानीय लोगों को अपने धर्म में धर्मांतरित करने के लिए कथित तौर पर लुभाने को लेकर गिरफ्तार किया गया था। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, राज्य में अब तक 35 से अधिक लोगों को नए कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है।