किसानों को रोका तो रोक देंगे गाजीपुर बॉर्डर, थानों में बांध देंगे पशु : राकेश टिकैत


गाजियाबाद। यूपी गेट पर आंदोलन के 18वें दिन भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने राज्य सरकार को आंदोलन में दखल न देने की चेतावनी दी। कहा कि यूपी में किसानों को घरों में नजरबंद व गिरफ्तार किया जा रहा है, रास्ते में ट्रैक्टर-ट्रॉली रोकी जा रही हैं। यदि अब किसानों का उत्पीड़न हुआ, ट्रॉलियां रोकी र्गइं तो किसान एक्सप्रेसवे की सभी 14 लेन को जाम कर गाजीपर बॉर्डर बंद कर देंगे। उन्होंने कहा कि जिस भी थाना क्षेत्र में किसानों को रोका जाएगा तो स्थानीय किसान वहीं थाने में पशु बांध देंगे। उन्होंने कहा कि किसान सरकार को बनाना भी जानता है और गिराना भी। दिल्ली मेरठ-एक्सप्रेसवे (यूपी गेट) पर प्रेस वार्ता करते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि आज जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन और अनशन सभी जगह सफल और शांतिपूर्ण रहा। इससे सरकार को भी बड़ा मेसेज गया। उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों की बात आज नहीं तो दस दिन बाद फिर सुननी पड़ेगी। लेकिन किसान अब यहां से बिना मांग मनवाए वापस नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि आंदोलन का अगला योजना मंगलवार के बाद तय होगी। टिकैत ने पुलिस प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि किसानों की ट्रॉलियां रोकी गईं तो एक्सप्रेसवे की सभी 14 लेन (गाजीपुर बॉर्डर) को बंद कर देंगे। ग्रामीण इलाकों से यूपी गेट की तरफ रुख करने वाले किसानों को परेशान करना बंद नहीं किया गया तो गांवों के थानों में पशु बांधे जाएंगे। उनका आरोप है कि उत्तर प्रदेश में उत्तराखंड के किसानों को रोका गया है। जबकि हरियाणा और पंजाब के किसानों को कहीं नहीं रोका जा रहा है वो लोग आसानी से आंदोलन स्थल पर आ-जा रहे हैं। इसी तरह यूपी के किसानों को भी यूपी गेट आते-जाते रहना चाहिए।चिल्ला बॉर्डर पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि वहां पर कुछ किसान सरकारी संगठन के थे, हमारा उनसे कोई मतलब नहीं है। जो लोग आंदोलन छोड़कर जाना चाहते हैं वो जा सकते हैं। वो सरकारी थे वो चले गए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह या कोई भी बात करना चाहते हैं तो वह हमें समय और तारीख बताएं हम बात करने को तैयार हैं।