पंजाब के टिकरी बॉर्डर पर वकील ने की आत्महत्या, पत्र लिखकर पीएम मोदी पर लगाए आरोप


  • फाजिल्का के रहने वाले वकील अमरजीत सिंह किसान प्रदर्शन में हुए थे शामिल
  • रविवार को खाया जहर, पत्र लिखकर पीएम मोदी पर लगाए गंभीर आरोप
  • पुलिस ने पत्र को कब्जे में लेकर जांच के लिए भेजा, दो हिस्सों में लिखा गया है पत्र
बहादुरगढ़। पंजाब के टिकरी बॉर्डर पर चल रहे किसानों के प्रदर्शन में रविवार को दुखद समाचार आया। यहां से कुछ दूरी पर ही एक वकील ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने वाले वकील ने एक पत्र छोड़ा है। इस नोट में उसने आत्महत्या का जिम्मेदार पीएम नरेंद्र मोदी को बताया है। उसने लिखा है कि वह किसान आंदोलन के समर्थन में अपना जीवन कुर्बान कर रहा है। पुलिस ने बताया कि मृतक की पहचान पंजाब के फाजिल्का जिले के जलालाबाद निवासी अमरजीत सिंह के तौर पर हुई है। उसने एक सुइसाइड नोट लिखकर जहरीला पदार्थ खा लिया। उसे बेसुध हालत में रोहतक के पीजीआईएमएस में ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
टाइप और पेन से लिखा है नोट
अमरजीत के पास से एक सुसाइड नोट मिला है। यह नोट उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर छोड़ा है। इस नोट में कुछ हिस्सा टाइप किया गया है जबकि कुछ हिस्सा हाथों से पेन के जरिए लिखा गया है। पुलिस ने इस पत्र को कब्जे में लेकर जांच के लिए भेजा है।
पीएम मोदी को सुना खरीखोटी
मृतक वकील अमरजीत सिंह ने पत्र में केंद्र के तीनों कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताया है। उन्होंने किसान आंदोलन के समर्थन में अपना बलिदान देने की बात लिखी है। वकील ने लिखा है कि प्रधानमंत्री कुछ लोगों के ही बनकर रह गए। तीनों कृषि बिल किसान, मजदूर और आम आदमी का जीवन तबाह कर देंगे। किसानों, मजदूर और आम आदमी की रोजी-रोटी मत छीनो।
न्यायपालिका पर भी उठाए सवाल
बताया जा रहा है कि पीड़ित वकील प्रधानमंत्री के नाम यह पत्र पहले से ही टाइप करके लेकर आए थे। हालांकि इस पत्र में हाथ से लिखा है कि न्यायपालिका भी जनता का विश्वास खो चुकी है। पुलिस ने बताया कि अमरजीत सिंह फाजिल्का की जलालाबाद बार असोसिएशन के सदस्य थे। वह किसान आंदोलन के दौरान नयागांव चौक के पास प्रदर्शन में शामिल थे। पुलिस मामले की जांच कर रही है।