अब स्थिति को और बिगड़ने ना दे भारत सरकार', सुखबीर सिंह बादल ने बाबा राम सिंह के निधन पर जताया दुख


चंडीगढ़। संत बाबा राम सिंह के निधन पर शिरोमणि अकाली दल के मुखिया सुखबीर सिंह बादल ने बुधवार को दुख व्यक्त किया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि संत बाबा राम सिंह का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए। करनाल के रहने वाले संत बाबा राम सिंह ने सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन वाली जगह पर खुद को गोली मार ली। अकाली दल के मुखिया सुखबीर सिंह बादल ने ट्वीट किया, 'संत बाबा राम सिंह जी नानकसर सिंगड़ा वाले ने खुद को सिंघु बॉर्डर पर किसान धरना और किसानों की बदहाली को देखते हुए गोली मार ली। इस खबर को सुनकर बहुत आहत हूं। संत जी का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए। मैं भारत सरकार से आग्रह करता हूं कि स्थिति को बिगड़ने ना दें और तीनों नए कृषि कानूनों को रद्द करें। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस घटना को लेकर ट्वीट किया है। केजरीवाल ने लिखा, 'संत बाबा राम सिंह जी की आत्महत्या की खबर बेहद पीड़ादाई है। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के प्रति संवेदनाएं। हमारा किसान अपना हक ही तो मांग रहा है, सरकार को किसानों की आवाज सुननी चाहिए और तीनों काले कानून वापस लेने चाहिए। संत बाबा रामसिंह का डेरा करनाल जिले में निसंग के पास सिंगड़ा गांव में है। वह सिंगड़ा वाले बाबा जी के नाम से दुनियाभर में विख्यात थे। हरियाणा पंजाब और विश्व भर में संत बाबा राम सिंह को सिंगड़ा वाले संत के नाम से ही जाना जाता था। वे सिंगड़ा वाले डेरे के अलावा विश्वभर प्रवचन करने के लिए जाते थे।