दिल्ली में पीपीई किट पहने चोर ने ज्वैलरी शोरूम से उड़ाए 13 करोड़ के गहने


दक्षिण-पूर्वी दिल्ली। पीपीई किट पहनकर कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों को देखकर हर देशवासी को गर्व होता है, लेकिन पीपीई किट पहनकर कोई करोड़ों की चोरी की वारदात को अंजाम देगा, ये शायद ही कभी किसी ने सोचा होगा। पीपीई किट पहने एक चोर दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के कालका जी में स्थित अंजलि ज्वैलर्स के शोरूम में दाखिल हुआ और 25 किलो सोने के जेवर समेटकर फरार हो गया, जिसकी कीमत 13 करोड़ रुपए थी। वारदात को मंगलवार-बुधवार की दरम्यानी रात को अंजाम दिया गया। बताया जा रहा है कि चोर शोरूम के पास किसी दूसरी इमारत के ग्राउंड फ्लोर से घुसा और छत से रास्ते 3-4 मकानों से होते हुए शोरूम की इमारत में दाखिल हुआ। इसके लिए उसने गैस कटर और रस्सी का इस्तेमाल किया। सीसीटीवी कैमरे में दर्ज वक्त के मुताबिक, चोर रात 9 बजकर 40 मिनट पर शो रूम में दाखिल हुआ और जब चोरी करके निकला तो सुबह के लगभग 4 बज चुके थे। यानी चोर करीब 6 घंटे वहां मौजूद था, लेकिन बिल्डिंग के आसपास मौजूद किसी सिक्योरिटी गार्ड को उसकी भनक तक नहीं लग पाई। शोरूम के बाहर 4 से 5 हथियारबंद सिक्योरिटी गार्ड मौजूद थे, लेकिन सर्द रात में चोर कब अपना काम करके निकल गया, उन्हें पता ही नहीं चला। लेकिन जब मामला पुलिस के पास पहुंचा, तो आरोपी को धर दबोचने में देर नहीं हुई। वारदात के 24 घंटे के अंदर पीपीई किट वाला ये चोर पकड़ा गया। जाहिर है, पीपीई किट पहनने का मकसद अपनी पहचान छुपाना ही था, लेकिन पुलिस को ये जानने में देर नहीं लगी कि आरोपी 25 साल का नूर रहमान है जो इसी शोरूम में इलेक्ट्रीशियन का काम करता था। वो मूल रूप से पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। नूर ने काम से छुट्टी ले रखी थी, जब उसे फोन किया गया तो उसने बताया कि वो तो कोलकाता में है, लेकिन पुलिस ने टेक्निकल सर्विलांस से पता लगा लिया कि वो कोलकाता नहीं, दिल्ली के ही करोल बाग में बैठा था। पुलिस ने उसे तुरंत दबोच लिया, उसके पास से 13 करोड़ कीमत का 25 किलो साना बरामद कर लिया गया है।