मथुरा में कोरोना गाइडलाइन तार-तार, बांके बिहारी के दर्शन के लिए '2 गज दूरी' बगैर कतार


  • मथुरा में नए साल के मौके पर कोरोना गाइडलाइन से खिलवाड़
  • वृंदावन के मशहूर बांके बिहारी के दर्शन के लिए टूटते दिखे नियम
  • कई किलोमीटर की कतार, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं
  • पुलिस के छूटे पसीने, श्रद्धालुओं से वृंदावन में न रुकने की अपील
मथुरा। कोरोना अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है लेकिन लापरवाही का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। कृष्ण की नगरी मथुरा में नए साल के मौके पर कोरोना की बंदिशें टूटती दिखीं। वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में दर्शन के लिए भारी हुजूम उमड़ा। इस दौरान लोगों के बीच कहीं भी दो गज की दूरी नहीं दिखी। इंतजाम में जुटी पुलिस के भी हाथ-पांव फूल गए। कोरोना की दहशत के बीच 2020 जैसे ही गुजरा और 2021 के पहले दिन सूर्य की पहली किरण निकली वैसे बांके बिहारी के दरबार में हाजिरी लगाने लोग दौड़े चले आए। मन्दिर, गलियां और बाजार हर तरफ लोगों की भीड़ जुट गई। वैसे तो मंदिर प्रशासन ने भीड़ को देखते हुए ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था किए जाने का दावा किया था लेकिन भीड़ के आगे सभी व्यवस्थाएं धरी की धरी रह गईं। भगवान के आगे हर कोई यही प्रार्थना कर रहा है कि कोरोना का संकट जल्द से जल्द दूर हो जाए। हालांकि दर्शन के लिए पहुंचे लोगों ने कोरोना के लिए जरूरी गाइडलाइन का पालन नहीं किया। आस्था की बाढ़ में कोरोना गाइडलाइन मंदिर परिसर के आसपास उड़ती नजर आई। लोग मास्क तो लगाए हुए थे लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न तो भक्त कर रहे थे न पुलिस प्रशासन करा पा रहा था। उधर भीड़ के चलते पुलिस अपने दावे ओर व्यवस्थाओं को सुचारु रखते हुए भक्तों को दर्शन के बाद जल्द से जल्द वापस भेजना चाहती है। कोरोना के संक्रमण पर काबू पाने के लिए भीड़ को इकट्ठा होने से रोकना भी जरूरी है। पुलिस अधिकारी भी आने वाले श्रद्धालुओं से यही अपील कर रहे है की इस गेट से आएं और इस गेट से निकल जाएं। साथ ही श्रद्धालुओं से वृन्दावन में न रुकने की अपील की जा रही है।