अपनी जान देकर 20 महीने की मासूम ने 5 घरों में बिखेरी मुस्कान, बनी सबसे छोटी कैडेवर डोनर


नई दिल्ली ब्यूरो। बच्चों को भगवान का रूप कहा जाता है और भगवान हमेशा लोगों के चेहरे पर खुशियां बिखेरते हैं। यह बात 20 महीने की बच्ची धनिष्ठा पर बिलकुल फिट बैठती है। धनिष्ठा ने अपनी जान तो गंवा दी, लेकिन 5 अलग-अलग लोगों को नई जिंदगी दे दी। इस वजह से धनिष्ठा सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर बन गई हैं।
डॉक्टरों ने घोषित कर दिया था ब्रेन डेड
जानकारी के मुताबिक, 20 महीने की यह मासूम बच्ची 8 जनवरी को रोहिणी में अपने घर पर खेलते हुए छत से नीचे गिर गई थी। परिवारवाले बच्ची को लेकर दिल्ली के गंगाराम अस्पताल पहुंचे। डॉक्टरों ने बच्चों को होश में लाने का भरसक प्रयास किया लेकिन सारी कोशिशें बेकार गईं और डॉक्टरों ने 11 जनवरी को बच्ची को ब्रेन डेड घोषित कर दिया।
धनिष्ठा के ऑर्गन 5 लोगों में प्रत्यारोपित किए गए
बताया जा रहा है कि बच्ची का ब्रेन डेड था, लेकिन शरीर के बाकी सारे अंग अच्छे से काम कर रहे थे। ऐसे में उसके माता-पिता ने बच्ची के अंगों को दान करने का फैसला किया। जिसके बाद धनिष्ठा के हार्ट, लिवर, दोनों किडनी और कॉर्निया को 5 अलग-अलग मरीजों में प्रत्यारोपित कर दिया गया जिससे उनको नई जिंदगी मिल गई।
5-5 घरों को रौशन करेगी धनिष्ठा की मुस्कान
बच्चे हमेशा बहुत प्यारे होते हैं और उनकी मुस्कान से घरों में रौनक बनी रहती है। लेकिन धनिष्ठा के माता-पिता ने जो साहसिक काम किया है उससे अब पांच अलग-अलग घरों में मुस्कान और खुशियां बिखरेगी। ऐसे में कहा जा सकता है कि अब धनिष्ठा की मुस्कान एक नहीं बल्कि 5-5 घरों को रौशन करेगी।