सरकार के पावर सेंटर में भ्रष्टाचार का खेलः विदेश में स्कॉलरशिप के लिए अफसर ने किसान से लिए 25 हजार, सतपुड़ा भवन के गेट पर लोकायुक्त ने पकड़ा


  • रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया सहायक संचालक
  • विदेश में स्कॉलरशिप बढ़ाने किसान से लिए थे 25 हजार रुपये
  • लोकायुक्त पुलिस ने सतपुड़ा भवन में छापा मारकर किया गिरफ्तार
  • पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय में सहायक संचालक हैं एचबी सिंह
भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सतपुड़ा भवन में लोकायुक्त ने छापा मारकर पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय में सहायक संचालक एचबी सिंह को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। गुरुवार शाम को हुई इस कार्रवाई में भ्रष्ट अफसर रिश्वत के पैसे जेब में रखकर सतपुड़ा भवन से घर के लिए निकला था, जब लोकायुक्त की टीम ने उसे पकड़ लिया। सतपुड़ा भवन भोपाल के पॉश इलाके में स्थित है और इसके बगल में ही प्रदेश सरकार के मंत्रियों और शीर्ष अधिकारियों के दफ्तर हैं। लोकायुक्त पुलिस के मुताबिक सहायक संचालक एचबी सिंह ने ओवरसीज स्कॉलरशिल बढ़ाने के लिए किसान पिता से 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। गुरुवार शाम को पैसे अपनी पैंट की जेब में रखकर वह दफ्तर से घर के लिए निकला। तभी सतपुड़ा भवन के गेट पर लोकायुक्त की टीम ने उसे रोक लिया। कार से उतारकर अफसर की तलाशी ली तो उसकी जेब से पैसे बरामद हुए जिसमें पहले से केमिकल लगाया गया था। लोकायुक्त की टीम उसे वापस दफ्तर लेकर गई और गिरफ्तार कर लिया। लोकायुक्त भोपाल के एसपी मनु व्यास ने बताया कि अफसर के खिलाफ धार जिले के किसान वल्लभ पाटीदार की शिकायत मिली थी। प्रदेश सरकार की एक योजना के तहत विदेश में पढ़ाई करने वाले छा6ों को स्कॉलरशिप दी जाती है। किसान के बेटे का चयन इसी योजना में हुआ है। सहायक संचालक ने ओवरसीज स्कॉलरशिप और एरिजोना यूनिवर्सिटी, फीनिक्स सिटी, यूएसए के भुगतान की राशि में पांच हजार डॉलर वृद्धि करने के लिए 2 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। किसान और अफसर के बीच तय हुआ कि स्कॉलरशिप में 5 हजार डॉलर वृद्धि की स्वीकृति दी जाएगी, लेकिन इसमें से 4 हजार डॉलर सहायक संचालक अपने पास रखेंगे।
लोकायुक्त टीम की योजना के मुताबिक किसान वल्लभ पाटीदार गुरुवार शाम करीब 6 बजे सहायक संचालक के ऑफिस में 25 हजार रुपए उन्हें दिए। कुछ देर बाद सिंह सरकारी गाड़ी में बैठकर घर के लिए रवाना हुए। लोकायुक्त की टीम ने सिंह को सतपुड़ा भवन के गेट पर ही पकड़ लिया। खास है कि एचबी सिंह दो साल बाद रिटायर होने वाले हैं।